आम लोगों के लिए खुशखबरी, 5 साल में सबसे कम हुई महंगाई

नई दिल्ली (14 जुलाई): आम लोगों को लिए राहत भरी खबर है। रिटेल महंगाई के बाद थोक महंगाई के मोर्चे पर भी लोगों को बड़ी राहत मिली है। खाद्य कीमतों में बड़े पैमाने पर गिरावट के चलते थोक मूल्य कीमतों पर आधारित देश की सालाना महंगाई दर में गिरावट दर्ज की गई है। जून में WPI यानि थोक महंगाई दर घटकर 0.9 फीसदी रही है। वहीं मई में थोक महंगाई दर 2.17 फीसदी थी। जुलाई 2016 के बाद थोक महंगाई सबसे नीचे स्तर पर दिख रही है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक संशोधित आधार वर्ष 2011-12 के साथ थोक मूल्य सूचकांक यानी WPI पर आधारित मुद्रास्फीति दर जून 2017 में गिरकर 0.90 फीसदी हो गई है, जबकि मई में यह 2.17 फीसदी थी।

किन चीजों में हुई कितनी गिरावट...

-ईंधन की थोक महंगाई दर मई के 11.69 फीसदी से घटकर 5.28 फीसदी रही है।

- खाने-पीने की चीजों के थोक महंगाई दर में भी जोरदार गिरावट देखने को मिली है। 

- खाने-पीने की चीजों की थोक महंगाई दर -1.25 फीसदी रही है जो मई में 0.15 फीसदी के स्तर पर थी।

-मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की थोक महंगाई दर मई के 2.55 फीसदी से घटकर 2.27 फीसदी पर आ गई है।

-फूड आर्टिकल की थोक महंगाई दर -2.27 फीसदी से घटकर -3.47 फीसदी पर रही है।

 जून में सब्जियों की थोक महंगाई पर भी लगाम लगी है।

- सब्जियों की थोक महंगाई दर  -21.16 फीसदी रही है जो मई में -18.51 फीसदी पर रही थी।

-दालों की थोक महंगाई दर -19.73 फीसदी के मुकाबले -25.47 फीसदी रही है।

-चीनी की थोक महंगाई दर मई के 12.83 फीसदी से घटकर 10.71 फीसदी पर आ गई है।

-नॉन-फूड आर्टिकल की थोक महंगाई दर -0.91 फीसदी रही है जो मई में -5.15 फीसदी थी।

- मेटल की थोक महंगाई मई के 7.32 फीसदी से बढ़कर 7.92 फीसदी पर रही है।

-प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई दर -1.79 फीसदी से घटकर  -3.86 फीसदी पर रही है। महीने दर महीने आधार पर जून में कोर डब्ल्यूपीआई 2.1 फीसदी के मुकाबले 2 फीसदी रही है।