कुंभ में पांच दलित महिलाओं को बनाया जाएगा महामंडलेश्वर

न्यूज24, नई दिल्ली ( 17 जून ): यूपी के इलाहाबाद में लगने वाले कुम्भ 2019 में जूना अखाड़ा 221 दलित महिलाओं और 300 दलित पुरुषों को संत बनाएगा। मौनी अमावस्या के पहले इन महिलाओं को संत बनने की दीक्षा दी जाएगी। साथ ही इनमें से पांच महिलाओं को महामंडलेश्वर बनाया जाएगा।ऐसा पहली बार होगा जब एक साथ इतनी बड़ी संख्या में दलित महिलाओं को संत बनाया जाएगा। जूना अखाड़ा के प्रमुख संरक्षक महंत हरि गिरि ने बताया कि इन महिलाओं के अलावा इसी अखाड़े में लगभग तीन सौ दलित व महादलित पुरुष भी संत बनने की दीक्षा ग्रहण करेंगे। इससे पहले 500 महिलाओं समेत सैकड़ों दलित जून अखाड़े के सदस्य बन चुके हैं।इसके अलावा अखाड़े में तीन महिलाओं समेत 8 दलित संत भी हैं, जिन्हें पहले से ही महामंडलेश्वर बनाए जाने का फैसला लिया है। इसी साल अप्रैल में अखाड़े ने कन्हैया उर्फ शिवानंद गिरि को अखाड़े में पहले दलित संन्यासी के रूप में शामिल किया था। अब उन्हें अगले साल कुंभ से महामंडलेश्वर कहा जाएगा।जूना अखाड़ा के मुख्य संरक्षक महंत हरि गिरि बताते हैं, 'अखाड़े में देशभर से करीब 75 लाख सदस्य शामिल हैं। आगामी कुंभ के दौरान 221 दलित महिलाएं भी संन्यास लेकर इसमें शामिल हो जाएंगी। इनमें से पांच को महामंडलेश्वर बनाया जाएगा।' बात दें कि महामंडलेश्वर अखाड़ा परंपरा का सबसे ऊंचा पद होता है।उन्होंने बताया, 'राजतिलक समारोह में सदस्य वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच सिर मुंडवाकर अखाड़ा प्रमुख से दीक्षा स्वीकार करेंगे। इसके बाद संन्यासी अपना-अपना पिंड दान करेंगे। इससे यह संदेश जाएगा कि सांसारिक इच्छाओं से परे हैं। उनमें से प्रत्येक को दंड (छड़ी) दिया जाएगा।' उन्होंने बताया कि महामंडलेश्वर के लिए भी इसी तरह का कार्यक्रम आयोजित होगा।