जयललिता की मौत के कारण से उठेगा पर्दा

नई दिल्ली (17 अगस्त): तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत के कारण की जांच के लिए एक जांच आयोग गठित करने का ऐलान किया गया है। मद्रास हाई कोर्ट के एक रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में जांच आयोग का गठन होगा जो अम्मा की मौत के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों की जांच करेगा।

पलानिसामी ने ऐलान किया कि रिटायर्ड जज के नाम को जल्द ही तय कर लिया जाएगा। जांच आयोग के कार्यकाल से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि 'समयबद्ध तरीके से कार्रवाई' की जाएगी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि यह फैसला जल्दबाजी में नहीं लिया गया है बल्कि सरकार ने काफी विचार-विमर्श के बाद यह फैसला लिया है।

पलानिसामी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने प्रभावशाली काम-काज से राज्य को गौरव प्रदान किया। जांच आयोग की जरूरत के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, 'अम्मा बीमारी की वजह से अस्पताल में थीं। 5 दिसंबर को उनपर इलाज का कोई असर नहीं दिखा और उनका निधन हो गया। मीडिया में उनकी मौत को लेकर तमाम संगठनों और तबकों की ओर कई तरह की रिपोर्ट्स आई हैं।'

इसी के साथ उन्होंने ऐलान किया कि चेन्नै स्थित जयललिता के आवास पोएस गार्डन को स्मारक में तब्दील किया जाएगा।