कोर्ट के बाहर मारपीट के खिलाफ सड़क पर उतरे कई पत्रकार, दो FIR दर्ज

नई दिल्ली (16 फरवरी): जेएनयू कैंपस में हुई देशद्रोही नारेबाजी को लेकर देश में सियासी माहौल गर्माया हुआ है। इस सियासी घमासान में रोज़ नए-नए विवाद भी जुड़ रहे हैं। पटियाला हाउस कोर्ट में पत्रकारों को पीटने के मामले में पत्रकार मार्च निकाल रहे हैं। बता दें की कल पत्रकारों से मारपीट की गई थी। हालांकि इस मामले में दो एफआईआर भी दर्ज हुए हैं।

सीपीआई कार्यकर्ता के साथ मारपीट को लेकर बीजेपी विधायक ओ पी शर्मा भी सवालों के घेरे में है। कल पटियाला हाउस कोर्ट में सोमवार को जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की पेशी के दौरान सीपीआई कार्यकर्ता अमीक जामई से मारपीट हुई थी। 

बीजेपी विधायक ओपी शर्मा पर मारपीट के आरोप हैं। अपने बचाव में ओ पी शर्मा सफाई दे रहे हैं। ओ पी शर्मा का कहना है कि उन्होंने आत्मरक्षा में युवक से हाथापाई की। ओपी शर्मा का आरोप है कि अमीक जामई देश विरोधी नारे लगा रहा था। मना करने पर भी वो नहीं माना। 

दूसरी तरफ अमीक का कहना है कि वो देश विरोधी नारे नहीं लगा रहा था उसे जानबूझ कर निशाना बनाया गया और मारपीट की गई है। इस मामले को लेकर ओ पी शर्मा के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की जा रही है। गिरफ्तारी तक की मांग की जा रही है। 

वहीं, मंगलवार तड़के डीयू के पूर्व प्रोफेसर एसएआर गिलानी को अरेस्ट कर लिया गया। उस पर प्रेस क्लब में अफजल के सपोर्ट में प्रोग्राम करने का आरोप है।