डेनमार्क की इस लड़की को सेक्स स्लेव बनाना चाहते थे ISIS के आतंकी

नई दिल्ली (7 फरवरी): डेनमार्क की एक लड़की आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) से लड़ने के लिए अपनी जान की बाजी लगाकर सीरिया गई थी। उसने वहां ISIS की नाक में काफी दम भी किया। लेकिन अब अपने देश डेनमार्क लौटने के बाद उसके सामने कई परेशानियां हैं। दरअसल, एक तरफ वह ISIS के निशाने पर है वहीं दूसरी तरफ उसे उसके ही देश के लोग आतंकी समझते हैं। जिस लड़की की यहां बात हो रही है उसका नाम जोआना पलानी है। एक इंटरव्यू में जोआना ने बताया कि आंतकी उसे पकड़कर ले जाना चाहते थे ताकि सेक्स स्लेव बना सकें। 23 साल की जोआना ISIS को खत्म करने के लिए डेनमार्क के नियम तोड़कर सीरिया – ईराक के खतरनाक इलाके में चली गई थी। जबकि, डेनमार्क ने सितंबर 2015 में नियम लागू किया था कि वहां का कोई भी शख्स सीरिया नहीं जाएगा। लेकिन जोआना नहीं मानी और चली गई। देश लौटने के बाद जोआना को छिपा-छिपा घूमना पड़ता है। वापस लौटने पर उसे कुछ वक्त के लिए जेल की हवा भी खानी पड़ी थी।जुआना एक ईरानी कुर्द परिवार की है। उसका जन्म इराक के ही एक रिफ्यूजी कैंप में 1993 में हुआ था। उसका परिवार बाद में डेनमार्क चला गया था। उस वक्त जोआना कुल तीन साल की थी। जोआना ने सीरिया से आने के बाद कई बातें बताईं। एक इंटरव्यू में जोआना ने कहा था कि आईएस के लड़ाकों को मारना काफी आसान है।