Blog single photo

जेएनयू के हॉस्टल फीस समेत दूसरे मुद्दों पर आज छात्रसंघ का संसद मार्च, सुबह 10 बजे जेएनयू से संसद के लिए निकलेंगे छात्र

आज संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत हो रही है। और आज ही जेएनयू छात्रसंघ ने मार्च निकालने का ऐलान किया है। हॉस्टल की फीस बढ़ाने समेत बाकी दूसरे मुद्दों के खिलाफ छात्र जेएनयू से संसद तक मार्च निकालेंगे। ये मार्च सुबह 10 बजे जेएनयू से निकलेगा। प्रदर्शनकारी छात्रों पर जेएनयू प्रशासन की अपील का कोई असर नहीं हुआ है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 नवंबर): आज संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत हो रही है। और आज ही जेएनयू छात्रसंघ ने मार्च निकालने का ऐलान किया है। हॉस्टल की फीस बढ़ाने समेत बाकी दूसरे मुद्दों के खिलाफ छात्र जेएनयू से संसद तक मार्च निकालेंगे। ये मार्च सुबह 10 बजे जेएनयू से निकलेगा। प्रदर्शनकारी छात्रों पर जेएनयू प्रशासन की अपील का कोई असर नहीं हुआ है। जेएनयू प्रशासन ने छात्रों से क्लास में लौटने और पढ़ाई शुरू करने की अपील की लेकिन प्रदर्शनकारी उसकी सुनने को तैयार नहीं।

छात्र संघ की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि फरवरी 2019 के सीएजी रिपोर्ट के मुताबिक सेकेंड्री और हायर से 94,036 करोड़ रुपयों का इस्तेमाल नहीं किया गया। सीएजी रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि 7298 करोड़ रुपये रिसर्च और विकास कार्यों में खर्च होने थे जो नहीं हुए। छात्र संघ का दावा है कि नेशनल एजुकेशन पॉलिसी ने पब्लिक फंडेड एजुकेशन के दरवाजे विदेशी और कॉर्पोरेट शिक्षा के लिए बंद कर दिए हैं। क्या इसी वजह से ऐसा हुआ है। 5.7 लाख करोड़ बैड लोन और 4 लाख करोड़ टैक्स रिबेट्स कॉर्पोरेट को दिए गए। लेकिन पब्लिक फंडेड एजुकेशन के लिए कुछ नहीं दिया गया।

विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर जारी एक वीडियो संदेश में उन्होंने कहा कि उन्हें चिंतित अभिभावकों और छात्रों के ई-मेल आ रहे हैं। उन्होंने कहा, 'यदि हम अभी भी हड़ताल पर अड़े रहे तो इससे हजारों छात्रों के भविष्य पर असर होगा।' उन्होंने कहा, “कल (सोमवार, 18 नवंबर) से एक नया हफ्ता शुरू होगा और मैं छात्रों से अनुरोध करता हूं कि आप कक्षाओं में वापस आइए और अपने शोध कार्यों को आगे बढ़ाइए। 12 दिसंबर से सेमेस्टर परीक्षाएं शुरू होंगी और अगर आप कक्षाओं में नहीं जाएंगे तो इससे आपके भविष्य के लक्ष्य प्रभावित होंगे।'

पुलिस ने बताया कि मार्च के मार्ग के आसपास सुरक्षा के पर्याप्त प्रबंध किये गये है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम जिले से शुरू होने वाले सभी संभावित मार्गों से संसद की ओर जाने वाले सभी प्रवेश बिंदुओं पर पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। उन्होंने कहा, 'हमने 18 नवंबर से शुरू होने वाले संसद के शीतकालीन सत्र के लिए संसद के आसपास पूरे क्षेत्र की सुरक्षा कड़ी की है। किसी भी अप्रिय स्थिति को टालने के लिए अन्य जिलों से भी अतिरिक्त पुलिसकर्मी तैनात किये जाएंगे।'

(Image Source: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top