घाटी में बचे आतंकियों की खैर नहीं, सुरक्षाकर्मियों का ढूढ़ों और मार डालो अभियान जारी

श्रीनगर (3 अगस्त): एलओसी पर जहां भारतीय सेना लगातार पाकिस्तानी रैंजर्स को मुंहतोड़ जवाब दे रहा है वहीं घाटी में सुरक्षाकर्मियों का आतंकियों के खिलाफ लगातार सफाई अभियान जारी है। इस कड़ी में इस साल अबतक 120 के करीब आतंकी मारे जा चुके हैं और सुरक्षाकर्मियों का ये अभियान लगातार जारी है।  मंगलवार को पुलवामा में लश्कर कमांडर अबू दुजाना की मौत के बाद अब सुरक्षाबलों की नजरें कश्मीर घाटी में सक्रिय बाकी मोस्ट वांटेड बाकी आतंकियों पर हैं।

दुजाना लश्कर का ए डबल प्लस कैटेगरी का आतंकी था और उस पर 15 लाख रुपए का इनाम था। भारतीय सेना की ओर से 30 मई को घाटी में सक्रिय करीब दर्जनभर आतंकियों की एक हिटलिस्ट...जारी की गई थी। इस लिस्ट में आतंकियों के नाम, उनके फोटोग्राफ्स और उनके ऑपरेशंस के बारे में जानकारी दी हुई थी। लिस्ट में लश्कर के अलावा हिजबुल मुजाहिद्दीन और जैश ए मोहम्मद के आतंकियों के भी नाम थे।   

सेना की हिटलिस्ट में दर्जनभर आतंकी थे जिसमें अल्ताफ डार, जाकिर मूसा अबु हमास, रियाज नाइकू, शौकत टाक और वसीम अहमद जैसे नाम शामिल हैं। दुजाना और लश्करी के अलावा जुनैद मट्टू को जून में सुरक्षाबलों ने मारा। इस समय नाइकू और मूसा घाटी में सबसे सक्रिय आतंकी हैं। इन पर सुरक्षाकर्मियों की पैनी नजर है और ये कभी भी मारे जा सकते हैं।