कश्मीर: बंदूक उठाने वाले को अब उन्हीं की भाषा में दिया जाएगा जवाब

नई दिल्ली (29 मई): घाटी में पिछले कई महीने से जारी उपद्रव के बाद अब सरकार सख्ती के मूड में दिख रही है। सरकार ने घाटी में पाकिस्तान के इशारे पर अमन-चैन के लिए खतरा बनते जा रहे लोगों के खिलाफ सख्त कदम उठाने के संकेत दिए हैं। सरकार ने साफ किया है कि अब कश्मीर में बंदूक उठाने वाले को अब उन्हीं की भाषा में जवाब दिया जाएगा। सूत्रों के हवाले मिल रही जानकारी के मुताबिक सरकार कश्मीर जारी हिंसा को अब बिल्कुल भी नरमी बरतने को तैयार नहीं है।

इससे पहले सेना प्रमुख बिपिन रावत भी साफ कर चुके हैं कि पाकिस्तान और ISI के फंडिंग और इशारे पर लोग उपद्रव करना बंद करे। उन्होंने कहा कितनी बार पत्थरबाजों से बात की जाएगी। पत्थरबारों के साथ सिविल सोसाइटी के सदस्यों की तरह बर्ताव नहीं किया जा सकता, अब उन्हें उन्हीं की भाषा में जवाब दिया जाएगा। सेना प्रमुख ने ये बात हिज्बुल मुजाहिद्दीन कमांडर सब्ज़ार भट्ट के मारे जाने के बाद कही।

साथ ही सरकार ने भी साफ किया है सैनिकों के साथ किसी भी कीमत में बर्बता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। वहीं सेना प्रमुख विपिन रावत ने कहा की अब पाकिस्तान को ईंट को जवाब पत्थर से दिया जाएगा।