जियो पर फंस सकती हैं एयरटेल, वोडा और आइडिया

नई दिल्ली (27 सितंबर): ट्राई ने कहा कि रिलायंस जियो और दूसरी टेलीकॉम कंपनियों के नेटवर्कों के बीच की गई कॉल्स में से 80-90 पर्सेंट तक फेल हो रही हैं। कॉल न हो पाने के इस 'अस्वीकार्य' स्तर को लेकर वह कंपनियों पर कार्रवाई कर सकता है।

ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा ने कहा कि कॉल न हो पाने की इस ऊंची दर की केवल एक वजह यह हो सकती है कि नेटवर्कों के बीच पॉइंट्स ऑफ इंटरकनेक्शन (PoI) अपर्याप्त हों। ट्राई के इस रुख को भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर के लिए दिक्कत तलब माना जा रहा है, जो दावा करती रही हैं कि उन्होंने जियो के सब्सक्राइबर्स के लिए उन्होंने पर्याप्त पॉइंट्स मुहैया कराए हैं।

शर्मा ने कहा कि ऐसे कॉल फेल्योर की वजह वह टेलिकॉम ऑपरेटरों से पूछेगा और जरूरी होने पर 'उचित कानूनी कदम' उठाने के बारे में निर्णय करेगा। उन्होंने कहा, 'पहली नजर में यह मामला इंटरकनेक्शन और क्वॉलिटी ऑफ सर्विस के नियमों से जुड़ी लाइसेंस की शर्तों के पालन न करने का है। ट्राई ने 15 से 19 सितंबर के बीच के कॉल टैरिफ डीटेल्स पर गौर किया है। शर्मा ने कहा, 'कॉल फेल्योर का मामला वाकई अस्वीकार्य स्तर पर है। क्वॉलिटी ऑफ सर्विस स्टैंडर्ड्स तो 0.5 पर्सेंट पर हैं।'