हमारे देश के आदर्श नहीं हो सकते जिन्ना, ध्रुवीकरण के लिए बनाया 'कृत्रिम मुद्दा': कांग्रेस

नई दिल्ली ( 4 अप्रैल ): अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में जिन्ना के फोटो पर जारी विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस बीच कांग्रेस ने कहा है कि पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना किसी भी तरह से भारत के आदर्श नहीं हो सकते हैं। साथ ही पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए जिन्ना के नाम पर ‘कृत्रिम मुद्दा’ तैयार किया गया है।कांग्रेस अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, ‘चाहे किसी पार्टी का व्यक्ति हो या अन्य, हम उसकी निंदा करते हैं जो जिन्ना की तारीफ करता है। जिन्ना किसी भी हालत में इस देश के आदर्श नहीं हो सकते।दरअसल, एसपी सांसद प्रवीण निषाद ने आजादी की लड़ाई में नेहरू और गांधी के योगदान की तुलना पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना के योगदान से कर दिया जिसके बाद गुरुवार को विवाद खड़ा हो गया। निषाद ने गोरखपुर में कहा, 'बीजेपी जिन्ना के नाम पर गंदी राजनीति कर रही है जो अत्यंत निंदनीय है। नेहरू और गांधी ने देश की आजादी में योगदान किया, लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि जिन्ना ने भी देश की आजादी के लिए समान रूप से योगदान किया है। कुछ धर्म और जाति के लोग तथाकथित राष्ट्रवादी बन गए हैं।'कांग्रेस ने एसपी सांसद द्वारा नेहरू-गांधी की तुलना जिन्ना से करने की निंदा की है। सिंघवी ने कहा कि इस देश में जिन्ना की जय-जयकार कभी नहीं हुई और न ही होनी चाहिए ,लेकिन अलीगढ़ में जिन्ना के बहाने एक कृत्रिम मुद्दा बनाया जा रहा है। इसका मकसद यह है कि प्रतिक्रिया हो और ध्रुवीकरण हो सके।