VIDEO: 5 साल बाद इस बच्चे ने लिया पुनर्जन्म


सोमनाथ गोयल, जींद (22 जुलाई):
अभी तक आपने पुनर्जन्म की काफी कहानी सुनी होंगी, लेकिन न्यूज 24 आपको एक ऐसी कहानी दिखाने जा रहा है जिसको देखकर चौंक जाएंगे। जी हां, हरियाणा के जींद में पुनर्जन्म की एक कहानी ने हमको भी हैरत में डाल दिया है।

यहां पर ढाई साल की उम्र में एक बच्चे ने जब परिवार के लोगों को अपने पिछले जन्म की बातें बतानी शुरू की तो वे चौंक गए। उनकी हैरानी तब और बढ़ गई, जब अपने गांव से 7 किलोमीटर दूर जाकर बच्चे ने एक दूसरे गांव में ना सिर्फ अपने पिछले जन्म से जुड़ी चीजों की पहचान की बल्कि पिछले जन्म के अपना माता-पिता को भी पहचाना।

लविश नाम का ये बच्चा खुद को पिछले जन्म का संदीप बताता है। हालांकि संदीप की मौत करीब 11 साल पहले हो चुकी है। जींद के गांव जलालपुरा कलां में करीब 4 साल पहले लविश का जन्म हुआ था। परिवार के लोगों का दावा है कि जब लवीश ढाई साल का था, तभी से इस तरह की हैरतभरी बातें कर रहा है और अपने पुर्नजन्म की बातें बता रहा है।

लविश के परिजनों का कहना है कि जब लविश सिर्फ ढ़ाई साल का था तो रामरा रामरा पुकारता था, मां कमला का नाम लेता था। जैसे-जैसे बड़ा होता रहा, वह रामराये जाने की इसकी जिद बढ़ती गई। हारकर परिवार वाले इसे जलालपुर कलां गांव से करीबन 7 किलोमीटर दूर इस रामराये गांव में लेकर गए तो यह देखकर उनकी हैरत का ठिकाना नहीं रहा कि लविश इस घर का रास्ता खुद ही बता रहा था।

दावा किया जा रहा है कि इस मासूम ने अपने पहले जन्म के इस मकान को पहचान लिया। साथ ही उसने अपने पड़ोसियों तक की पहचान कर डाली। लविश अपने खेतों तक भी पहुंच गया। उसने जहां अपने खेत पहचान लिए, उसके उस जगह की भी ठीक-ठीक पहचान कर ली, जहां करंट लगने से उसकी मौत हुई थी।

अब जिस घर को 4 साल का लविश अपने पहले के जन्म का घर बता रहा है, उसमे रहने वाला ज्योतिस्वरूप परिवार ने भी इस बात की पुष्टी की है कि संदीप की 26 जुलाई 2006 को करंट लगने से मौत हो गई थी। उस समय संदीप की उम्र 14 साल थी और वो 11 क्लास में पढ़ता था। लविश को जब संदीप की फोटो दिखाई गई तो उसे पहचानते हुए देर नहीं लगाई और कहने लगा यह फोटो उसके पिछले जन्म की है।

वीडियो: