झारखंड में भूख का तांडव, बच्ची के बाद रिक्शा चालक की मौत

नई दिल्ली (22 अक्टूबर): झारखंड में रघुवर राज में भूख का तांडव बस्तूर जारी है। झारखंड के सिमडेगा में भूख से मौत का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि धनबाद के झरिया में एक रिक्शा चालक की भूख से मौत हो गई। बताया जा रहा है कि 40 साल के बैजनाथ दास के घर में अनाज का एक दाना भी नहीं था और खाना नहीं मिलने के कारण वह बीमार हो गया था। भूख से दो-दो मौत के बाद अब रघुवर सरकार की कुंभकर्णी नींद खुली है। झारखंड प्रशासन ने राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के तहत मृत बैजनाथ दास की पत्नी को 20 हजार रुपये का चेक दिया है। साथ राज्य के खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले झारखंड के सिमडेगा जिले के एक गांव में 28 सितंबर को भूख के कारण 11 साल की बच्ची की मौत हो गई थी। उसके परिवार को सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत दुकानदार ने खाद्य अनाज नहीं दिया क्योंकि उसका आधार कार्ड, राशन कार्ड से जुड़ा हुआ नहीं था। बच्ची की मौत के बाद गांव के लोगों ने मृत बच्ची की मां कोयली देवी को गांव से बाहर निकाल दिया। डरी सहमी महिला ने बाद में पंचायत घर में आश्रय लिया है। सिमडेगा जिला प्रशासन ने स्थानीय अधिकारियों से मामले की जांच करने को कहा है।