मसूद और हाफिज ने मिलाया इमरान से हाथ, नवाज को उखाड़ फेंकने का बनाया एक्शन प्लान

नई दिल्ली ( 24 अक्टूबर ) : इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी ने 2 नवंबर को इस्लामाबाद में तालाबंदी का एलान किया है। नवाज शरीफ को सत्ता से बेदखल करने और तालाबंदी को आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद और जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर का समर्थन मिला है। 

जमात-उद-दावा और जैश-ए-मोहम्मद के सदस्यों ने कहा कि इस्लामाबाद में होने वाले धरने के समर्थन के लिए खान की पार्टी की तरफ से दो समूह के लोगों ने संपर्क किया था। 

सोमवार को इस्लामाबाद की कट्टरपंथी लाल मस्जिद जिसे तालिबान से करीबी के तौर देखा जाता है के नेताओं ने इस्लामिक स्टेट के नेतृत्व में इमरान खान के धरने को समर्थन देने की घोषणा की। 

जमात उद दावा और जैश इमरान खान को सड़क पर शक्ति प्रदर्शन में साथ देंगे और उनके सदस्यों ने नेतृत्व से निर्देश पाने के बाद तैयारी शुरू कर दी है। 

जमात उद दावा के समर्थकों ने पुष्टि की है कि वे लाहौर जहां समूह का संचालन होता है वहां से उन्हें निर्देश मिला है और वह आगे के निर्देश का इंतजार कर रहे हैं। 

विश्लेषक कैसर महमूद ने कहा, यह एक बहुत ही खतरनाक जुआ है जो इमरान खान खेलने जा रहे हैं। अब अधिकांश उग्रवादी समूह इमरान को शक्ति प्रदान कर रहे हैं। 

इमरान खान नवाज शरीफ प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने के लिए प्रदर्शन के जरिए दबाव डालने चाहते हैं। पनामा लीक में नवाज शरीफ और उनके परिवार के लोगों का नाम आया है, तब से ही इमरान खान नवाज से इस्तीफा देने को कह रहे हैं।