जेडीयू ने तेजस्वी पर आरजेडी को दिया 4 दिन का अल्टीमेटम

नई दिल्ली (11 जुलाई): बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव समेत लालू यादव और उनके परिवार के सदस्यों पर भ्रष्टाचार के मामले में केंद्रीय एजेंसियों का शिंकजा बढ़ रहा है। इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को जेडीयू की अहम बैठक की। बैठक में तेजस्वी के मुद्दे पर नीतीश ने सख्त रुख का संकेत दिया। जेडीयू ने आरजेडी को तेजस्वी यादव के इस्तीफे पर अगले 4 दिनों में फैसला लेने को कहा है। अगर इस दौरान आरजेडी कोई फैसला नहीं लेती है तो जेडीयू एक बार फिर इस पर चर्चा के बाद कोई फैसला लेगी।

जेडीयू बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता रमई राम ने कहा कि तेजस्वी के मसले पर आरजेडी को फैसला लेने के लिए 4 दिन का वक्त दिया गया है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ जेडीयू विधायकों, सांसदों और जिला पदाधिकारियों की बैठक खत्म हो गई। बैठक में नीतीश कुमार ने कहा है कि भ्रष्टाचार पर उन्होंने हमेशा जीरो टोलरेंस की नीति अपनाई है। नीतीश ने कहा कि अगर ये मामला उनकी पार्टी के नेता पर होता तो अब तक वो कार्रवाई कर चुके होते।

मीटिंग के बाद जेडीयू ने लालू प्रसाद की पार्टी को चार दिन का समय दिया है। जेडीयू ने कहा है कि अगर चार दिन के भीतर लालू यादव तेजस्वी के इस्तीफे पर कोई फैसला नहीं कर पाते तो फिर जेडीयू कोई बड़ा ऐलान कर सकती है। मीटिंग में नीतीश कुमार ने साफ शब्दों में कहा कि ये मामला दूसरी पार्टी यानी आरजेडी से जुड़ा है, ऐसे में तेजस्वी के इस्तीफे पर आरजेडी को ही फैसला लेना होगा।

मीटिंग के बाद जेडीयू  प्रवक्ता नीरज कुमार ने बताया कि पार्टी तेजस्वी यादव से आरोपों पर सफाई चाहती है। उन्होंने कहा कि हम गठबंधन धर्म का पालन करेंगे, मगर नीतीश कुमार भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस की नीति पर काम करते हैं। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव सार्वजनिक तौर पर तथ्य रखें और अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई दें।

दरअसल, बिहार सरकार में सहयोगी आरजेडी के प्रमुख लालू यादव और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के यहां सीबीआई छापों के बाद ये बड़ी बैठक हुई है। सबकी निगाहें महागठबंधन के भविष्य पर टिकी हुई है।