तेरह साल की उम्र में मिल गया था हीरोइन बनने का ऑफर !

नई दिल्ली (5 दिसंबर):  कहा जाता है कि जयललिता की मां ने फिल्मों में मजबूरी में काम किया था। वो जयललिता को फिल्मी माहौल से दूर रखना चाहती थीं। आगे क्या हुआ पढिएः

* अपनी मजबूरी की वजह से जयललिता की मां ने फिल्मों में काम तो किया लेकिन बेटी जयललिता को फिल्मी माहौल से दूऱ रखने के लिए चेन्नई भेज दिया। आगे की पढ़ाई जयललिता ने प्रेजेंटेशन चर्च पार्क कांवेंट स्कूल , चेन्नई  से पूरी की। 

    * पढ़ाई के साथ-साथ संगीत और नृत्य में रूचि- खूबसूरत जयललिता को पढ़ाई के साथ संगीत में रूचि थी , वो बहुत अच्छा नृत्य कर सकती हैं। 

13 साल की होते ही जयललिता की लाइफ ने बदली करवट - जब वो 13 साल की हुईं तभी उनकी लाइफ ने करवट बदली , जो उनके जीवन का अहम मोड़ बन गया। ' संध्या ' की फिल्म के एक निर्माता की नजर जयललिता पर पड़ी और उन्होंने उन्हें हिरोईन बनने का ऑफर दिया। जिसे उनकी मां ने स्वीकार कर लिया और जयललिता ने फिल्मों के लिए हां बोल दिया और वो हिरोईन बन गईं। मात्र 15 साल की उम्र में पूर्व राष्ट्रपति वीवी गिरि के बेटे शंकर गिरि की इंग्लिश फिल्म ‘एपिस्टल ’ में भी काम किया।