शहीद के ताबूत के साथ जयललिता की फोटो, हुआ विवाद

नई दिल्ली (17 फरवरी): हमारे देश के नेताओं को सिर्फ राजनीति करने से मतलब है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं, क्‍योंकि सियाचिन में शहीद हुए सैनिक जी गणेशन के तमिलनाडु में अंतिम संस्कार के दौरान जो हुआ वह वाकई में शर्मसार करने वाला है। यहां पर शहीद के पार्थिव शरीर के पास सीएम जयललिता की फोटो दिखाने पर विवाद हो गया।

जयललिता सरकार में मंत्री सेल्लू राजू शहीद के परिवार को देने के लिए 10 लाख का चेक लेकर पहुंचे थे। यहां शहीद सैनिक जी. गणेशन की मां को प्रदेश सरकार की तरफ से दस लाख रुपये का चेक देते समय मंत्री ने मुख्यमंत्री जे. जयललिता की तस्वीर और शहीद के ताबूत के साथ तस्वीरें खिंचवाई। गणेशन का अंतिम संस्कार मदुरै में किया गया।

सरकार की ओर से मंत्री सेल्लू राजू भी पहुंचे। उन्होंने परिजन को दस लाख रुपये का चेक प्रदान किया, लेकिन वे इस मौके पर भुनाना भी चाहते थे। इसलिए उन्होंने शहीद के ताबूत के साथ जयललिता की तस्वीर हाथ में लेकर फोटो खिंचवाई। वे जयललिता की तस्वीर लेकर शहीद की मां के पास भी गए जो अपने आंसू नहीं रोक पा रही थी। उन्होंने मां के बताया कि यह राहत राशि जयललिता ने भिजवाई है। बिलखती मां ने हाथ जोड़ लिए।

यह घटनाक्रम देख रहे स्थानीय बाशिंदों में गुस्सा फैल गया। स्थानीय रहवासी प्रेम का कहना है, यह शर्मनाक है। शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए बड़ी तादाद में लोग वहां मौजूद थे। लोगों ने मिनिस्टर और कलेक्टर पर अपनी नाराजगी दिखाई। इसके बाद दोनों ही वहां से निकल गए। लोगों का कहना था कि चुनावी फायदे के लिए नेता कुछ भी कर रहे हैं। गौरतलब है कि तमिलनाडु में इस साल असेंबली इलेक्शन होने हैं।