जयललिता की जिंदगी से जुड़ी 11 अनसुनी बातें…

नई दिल्ली (5 दिसंबर): तमिलनाडु की सीएम जे. जयललिता का निधन हो गया है। उनके समर्थकों का जितना औरा था उतना भारत में बहुत कम नेताओं के पास होता है। फिल्मों से राजनीति में आई जयललिता के लिए लोगों में दीवानगी थी।

एआईडीएमके की जनरल सेक्रेटरी और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता परिस्थितियों से जूझते हुए कैसे बन गईं लोगों की ‘अम्मा’?

जयललिता की जिंदगी की 11 अनसुनी बातें…

1: 24 फरवरी 1948 को मैसूर के मांडया जिले के मेलुरकोट गांव में पैदा हुई थी जयललिता। महज दो साल की उम्र में उनके पिता की मृत्यु हो गई थी। 2: पिता की मृत्यु के बाद से ही उनकी जिंदगी में संघर्ष का दौर शुरू हो गया। उनकी माँ वेदवल्ली ने संध्या नाम से तमिल फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया। 3: अमूमन दक्षिण भारतीय महिलाएं सांवली होती हैं लेकिन जयललिता बचपन से ही गोरी थीं। 4: जयललिता वकालत करना चाहती थी लेकिन उनकी माँ ने उन्हें फिल्मों में काम करने के लिए मजबूर किया। 5: एकबार फिल्मों का सिलसिला शुरू हुआ तो फिर चल निकला। उन्होंने उस दौर के लगभग सभी सुपरस्टारों के साथ काम किया। इनमें शिवाजी गणेशन, जयशंकर, राजकुमार, एनटीआर और एम जी रामचंद्रन शामिल थे। 6: जयललिता की पहली फिल्म एडल्ट करार दी गई। दुर्भाग्य देखिए कि जयललिता अपनी पहली फिल्म को थिएटर में नहीं देख सकीं क्योंकि उस वक्त उनकी उम्र 18 साल से कम थी। 7: जयललिता पहली तमिल अभिनेत्री थी जिन्होंने फिल्मों में बिना ब्लाउज के झरने के नीचे नहाने वाला सीन फिल्माया। 8: एमजीआर से जयललिता की काफी नज़दीकी थी। जब एम जी रामचंद्रन राजनीति में आए तो जयललिता को भी साथ लाए। 9: 1982 में उन्होंने अन्नाद्रमुक की सदस्यता ग्रहण की और 1983 में प्रचार प्रमुख बन गईं। इसके बाद वो राजनीति की सीढ़ियां चढ़ती गई। 10: फिल्मों में रहते हुए जयललिता को शादी-शुदा अभिनेता सोहन बाबू से प्यार हो गया। लेकिन इन दोनों की शादी नहीं हो सकी। 11: अपनी जिंदगी के बारे में बात करते हुए जयललिता ने एकबार कहा थी कि मेरी जिंदगी का एक तिहाई हिस्से पर मेरी माँ का प्रभाव रहा। जिंदगी के दूसरे हिस्से पर एमजीआर का। मेरी ज़िंदगी का सिर्फ एक तिहाई हिस्सा मेरा है। मुझे इसी में बहुत सारी जिम्मेदारियों को पूरा करना है।