जावेद अख्तर बोले- तीन तलाक वाले नहीं हो सकते इस्लामिक

नई दिल्ली(26 सितंबर): जावेद अख्तर ने ट्रिपल तलाक को गलत बताते हुए कहा कि ऐसा करने वाले इस्लामिक नहीं हैं। अगर हम मान भी लें कि ये इनका धर्म है तो कुरान में ऐसा नहीं लिखा है। दुनिया में जो भी प्रमुख इस्लामिक देश हैं, उन्होंने भी इसे बैन कर दिया तो धर्म निरपेक्ष भारत में ऐसा क्यों हो रहा है। इनसे पूछो कि अमेरिका, सिंगापुर, इंग्लैंड में रहते हो तो क्या वहां ऐसा कर सकते हो? ये एक्सेप्ट नहीं किया जा सकता। जावेद अख्तर ने ये बाते एक मीडिया हाउस से बातचीत मे कही।। 

- जावेद ने कहा कि इस मुल्क में अगर अलग-अलग कम्युनिटी के पर्सनल लॉज हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मगर धर्मनिरपेक्ष जनतंत्र वाले देश में सबसे सुप्रीम चीज हमारा संविधान है। हिंदू, क्रिश्चन या मुसलमानों का पर्सनल लॉ हो, लेकिन अगर वह संविधान को क्लैश करता है तो वह संविधान का अंतरविरोधी हो जाएगा।

- जावेद बोले-आजकल खुलकर बोलने या आवाज उठाने वाले इंसान को खतरा है। आज मैं शोले फिल्म वापस लिखूं तो धर्मेंद्र और हेमा को लेकर मंदिर वाला शॉट नहीं लिखूंगा, वरना लोग हंगामा कर देंगे।

- उन्होंने कहा कि 1975 में तो किसी ने कुछ नहीं किया। दुख की बात है। टॉलरेंस कम हो रहा है। जब देखो इस्लाम तो खतरे में आ जाता था, अब हिंदू धर्म भी खतरे में आ जाता है।

- जावेद ने कहा कि मुझे किसी धर्म की बातें समझ नहीं आती है ना ही मैं कोई फेस्टिवल मनाता हूं। मैं नास्तिक हूं।

- उन्होंने एक एक्टर की ओर से कुर्बानी को लेकर दिए गए बयान पर कहा कि उसके बारे में मेरा ये मानना है कि कुर्बानी, बलिदान अच्छी बात है लेकिन किसी भी खास त्योहार पर क्यों, ये तो कभी भी दी जा सकती है।