जाटों का अल्टीमेटम खत्म, सरकार ने मांगे अर्धसैनिक बल

रोहतक (17 मार्च): जाट समुदाय द्वारा दिया गया अल्टीमेट खत्म हो रहा है। किसी अप्रिय घटना को देखते हुए रोहतक के सार स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। वहीं हरियाणा सरकार ने संवेदनशील क्षेत्रों में तैनाती के लिए केन्द्र से अर्धसैनिक बलों की मांग की है।

रोहतक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक संजय कुमार ने कहा, ‘‘केन्द्र से अर्धसैनिक बलों की मांग की गई है, (राज्य गृह विभाग के माध्यम से) और हमें वह मिलेंगे।’’ उन्होंने बताया कि राज्य के अन्य स्थानों से अतिरिक्त पुलिस बल का भी इंतजाम किया गया है। हमने समुचित पुलिस सुरक्षा व्यवस्था की है। हमारे पास समुचित संख्या में बल है और उसी अनुसार तैनाती की जा रही है।’’

हालांकि उन्होंने इस संबंध में जानकारी देने से इनकार कर दिया कि जाट नेताओं द्वारा आंदोलन फिर से शुरू किए जाने की स्थिति में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए कितने पुलिसकर्मी तैनात किए जा रहे हैं। अधिकारी ने कहा, ‘‘मैं इसका खुलासा नहीं कर सकता क्योंकि यह सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला है।’’ पिछले महीने हुए जाट आंदोलन के दौरान हिंसा को नियंत्रित करने में ‘‘असफल’’ रहने के कारण हरियाणा पुलिस की खूब आलोचना हुई थी। आंदोलन के दौरान 30 लोग मारे गए थे।

ऑल इंडिया जाट संघर्ष समिति के नेतृत्व में जाट समुदाय ने धमकी दी है कि यदि राज्य की भाजपा सरकार ने 17 मार्च तक उनकी मांगे पूरी नहीं कीं, तो वे आंदोलन फिर शुरू कर देंगे। जाट नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 10 प्रतिशत आरक्षण, प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी वापस लिए जाने, आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के लिए मुआवजा और कुरुक्षेत्र से भाजपा सांसद राज कुमार सैनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।