हरियाणा: 'जाट आरक्षण' आंदोलन हुआ हिंसक, अब तक तीन लोगों की मौत

नई दिल्ली (19 फरवरी): हरियाणा में सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर पिछले दिनों से चल रहा जाट समुदाय का आंदोलन हिंसक हो गया। इस हिंसा में अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है।

रोहतक और भिवाड़ी में कर्फ्यू, 9 शहरों में बुलाई गई सेना

रोहतक में आंदोलनकारियों और सुरक्षा बलों से भिड़ंत हो गई। शुक्रवार को हुई हिंसा के बाद 9 शहरों में सेना को तैनात करना पड़ा है। इसके अलावा रोहतक और भिवाड़ी में कर्फ्यू लगाया गया है। हालात बेकाबू होने की स्थिति में सुरक्षाकर्मियों को गोली चलाने के भी आदेश दिए गए हैं।

वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु के घर पर हमला

बताया जा रहा है, उग्र भीड़ ने वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु के घर पर भीड़ ने हमला किया। तोड़फोड़ भी की गई और वहां खड़ी सभी कारों को आग लगा दी। अब वहां भारी पुलिस बल तैनात है। इससे पहले रोहतक में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई। हंगामे के इसके चलते झज्जर और सोनीपत में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। इस आंदोलन की वजह से रेल और सड़क दोनों मार्ग बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। कई जगह जाम लगा हुआ है। 

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के बाहर शुरु हुई हिंसा

रिपोर्ट के मुताबिक, यह घटना महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के गेट नम्बर दो के पास हुई। इस दौरान सुरक्षा बलों की तरफ से आत्मरक्षा में की गई गोलीबारी में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। इस भिड़ंत में दस अन्य घायल हो गए। राज्य के पुलिस महानिदेशक यशपाल सिंघल ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस उपाधीक्षक को बंधक बना लिया है। जिस पर वहां अतिरिक्त पुलिस बल भेज कर उन्हें छुड़ाया गया।

बताया जा रहा है कि भीड़ ने डीआईजी की कार, पुलिस की दो जिप्सियों तथा एक अन्य वाहन को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान भीड़ में से किसी ने देसी बंदूक से फायरिंग भी की है। फायरिंग में चली गोली वहां तैनात सीमा सुरक्षाबल के एक जवान को लगी। इसके बाद सुरक्षा बलों द्वारा आत्मरक्षा में की गई फायरिंग में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। 

राजनाथ सिंह ने जाट आंदोलन हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

केंद्रीय ग्रहमंत्री राजनाथ सिंह ने हरियाणा के कुछ स्थानों पर जाट आरक्षण की मांग को लेकर भड़की हिंसा को दुर्भाग्य पूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में किसी भी समस्या का समाधान बातचीत से निकल सकता है।