डीएसपी की हत्या पर महबूबा की चेतावनी, पुलिस के सब्र का इम्तिहान न लें

नई दिल्ली (23 जून): जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने श्रीनगर की जामा मस्जिद के बाहर एक पुलिस अधिकारी की भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या किए जाने को 'शर्मनाक' करार दिया और कहा कि अगर पुलिस के सब्र का बांध टूट गया तो गंभीर प्रतिक्रिया हो सकती है। महबूबा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस देश में सबसे बेहतरीन पुलिस बल में से एक है और वह अधिकतम संयम का परिचय दे रही है।

शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा, 'अगर पुलिसवालों के संयम का यही परिणाम है तो फिर बहुत मुश्किल होने वाली है। यह कितने समय तक चलेगा? मैं लोगों से कहना चाहती हूं कि अगर यह चलता रहा तो स्थितियां वैसी ही हो जाएंगी जैसी थीं, जब लोग पुलिस की जिप्सी सड़क पर देखकर भागा करते थे।'

मुख्यमंत्री ने कहा, हम संयम बरत रहे हैं, क्योंकि हमारा सामना हमारे ही लोगों से है ,लेकिन कब तक ऐसा चलेगा। अभी कुछ समय पहले एसएचओ, फिर पांच पुलिस वाले अब ये डीएसपी ये तो अपने काम से नहीं गया था, वे वहां थे ताकि लोगों की जिंदगियां बचा सके। वह अपना काम करने और अपना फर्ज निभाने के लिए वहां गया था।