Blog single photo

पठानकोट रेलवे स्टेशन से 6 संदिग्ध गिरफ्तार, बड़ी वारदात को देने वाले थे अंजाम

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पंजाब के पठानकोट रेलवे स्टेशन पर जम्मूतवी पूजा एक्सप्रेस से 6 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। इनको ट्रेन रुकवाकर हिरासत में लिया गया है. यह ट्रेन जम्मू से दिल्ली आ रही थी। आशंका जताई जा रही है कि ये संदिग्ध किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी में थे। अमृतसर के निरंकारी भवन पर हमले के बाद इन संदिग्धों की गिरफ्तारी सामने आई है।

                                                                                          संदिग्धों को पकड़ कर ले जाते हुए

न्यूज 24 ब्यूरो,नई दिल्ली (25 नवंबर): जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पंजाब के पठानकोट रेलवे स्टेशन पर जम्मूतवी पूजा एक्सप्रेस से 6 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। इनको ट्रेन रुकवाकर हिरासत में लिया गया है. यह ट्रेन जम्मू से दिल्ली आ रही थी। आशंका जताई जा रही है कि ये संदिग्ध किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी में थे। अमृतसर के निरंकारी भवन पर हमले के बाद इन संदिग्धों की गिरफ्तारी सामने आई है। 

इसके अलावा दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू एंड कश्मीर (ISJK) के तीन आतंकियों को गिरफ्तार करने में भी कामयाबी हासिल की है। इन संदिग्ध आतंकियों के पास से हथियार, ग्रेनेड और विस्फोटक भी बरामद हुए हैं। गिरफ्तार किए गए ये तीनों संदिग्ध जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। गिरफ्तार किए गए संदिग्धों की पहचान जम्मू कश्मीर के त्राल निवासी ताहिर अली खान, बडगाम निवासी हरीश मुश्ताक खान और रैनावाड़ी निवासी आसिफ सुहैल नडाफ के रूप में हुई है। ताहिर अली खान के पिता का नाम अली मोहम्मद, हरीश मुश्ताक खान के पिता का नाम मुश्ताक अहमद और आसिफ सुहैल नदाफ के पिता का नाम लतीफ बताया जा रहा है।

इससे पहले अमृतसर के निरंकारी भवन में हुए हमले में दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था, जिनकी पहचान विक्रमजीत सिंह और अवतार सिंह के रूप में हुई है। अवतार सिंह ने ही निरंकारी भवन में सत्संग कर रहे अनुयायियों पर ग्रेनेड फेंका था, जबकि विक्रमजीत सिंह भवन के बाहर मोटरसाइकिल पर इंतजार कर रहा था और उसने गेट पर खड़े दो लोगों को बंदूक की नोक पर ले रखा था, ताकि वे शोर न मचा सकें। विक्रमजीत सिंह पंजाब का स्थानीय निवासी है। उसने पाकिस्तान में बैठे आतंकियों की मदद से इस हमले को अंजाम दिया था। इस हमले में तीन लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 20 लोग घायल हो गए थे। 

यह ग्रेनेड हमला अमृतसर से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित आदिलवाल गांव में निरंकारी पंथ के सत्संग भवन में हुआ था। यह हमला उस वक्त हुआ था जब लोग प्रार्थना के लिए एकत्र हुए थे। वहां करीब 200 लोग मौजूद थे। देश-विदेश में निरंकारी अनुयायियों की संख्या लाखों में है। इसका मुख्यालय दिल्ली में है। इस हमले के लिए पैसा और ग्रेनेड पाकिस्तान में बैठे खालिस्तानी आतंकी हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी ने मुहैया करवाया था। पटियाला से कुछ दिन पहले पकड़े गए खालिस्तान गदर फोर्स के आतंकी शबनम दीप सिंह ने इसके लिए स्लीपर सेल के माध्यम से इन दो लड़कों को बरगला कर अपने साथ जोड़ा था। शबनम दीप सिंह ने गरीब लड़कों को खालिस्तान के नाम पर बरगला कर उनको चंद हजार रुपये देकर हैंड ग्रेनेड फेंकने के लिए तैयार किया था। उन्हें ट्रेनिंग भी दी गई थी।

Tags :

NEXT STORY
Top