जम्मू-कश्मीर: अलगाववादियों ने बुलाया बंद, हिरासत में जेकेएलएफ नेता यासिन मलिक

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 21 जून ): जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू हो गया है जिसके बाद अब अलगाववादियों पर कार्रवाई तेज हो गई है। गुरुवार को श्रीनगर में जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के चीफ यासीन मलिक को पुलिस ने हिरासत में लिया है। बता दें कि राज्य में बुधवार को ही राज्यपाल शासन लागू हुआ था।गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक रमजान के दौरान सीजफायर के बावजूद आतंकी घटनाओं में 265 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। सूत्रों के मुताबिक इसके पीछे कट्टरपंथी ताकतों के मजबूत होने को एक वजह माना जा रहा है। बीजेपी महासचिव राम माधव ने समर्थन वापसी से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस बात की तस्दीक की थी।श्रीनगर में अलगाववादी नेता यासीन मलिक को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गुरुवार सुबह हिरासत में ले लिया। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कुछ और अलगाववादियों पर ऐक्शन लेते हुए नजरबंद या गिरफ्तार किया जा सकता है। 28 जून से अमरनाथ यात्रा भी शुरू हो रही है। ऐसे में आतंकी हमलों की आशंका को देखते हुए सुरक्षाबलों को सतर्क किया गया है।राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी और सेना के जवान औरंगजेब की हत्या के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने मंगलवार दोपहर पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी (पीडीपी) की अगुआई वाली सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। महबूबा मुफ्ती के इस्तीफा देने के बाद राज्यपाल शासन की सिफारिश को राष्ट्रपति ने मंजूरी दे दी थी। इसके साथ ही राज्य में अगले 6 महीने के लिए राज्यपाल शासन लागू हो गया है।