जम्मू-कश्मीर: ऑपरेशन ऑलआउट का कहर, इस साल अब तक मारे गए 190 आतंकी

नई दिल्ली ( 19 नवंबर ): जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ और सेना के संयुक्त ऑपरेशन में इस साल अब तक 190 आतंकी मारे जा चुके हैं। रविवार को आयोजित यह प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी जनरल ऑफिसर कमांडर ले. जनरल जेएस संधू ने दी। इन 190 आतंकियों में 80 स्थानीय आतंकी और 110 विदेशी आतंकी थे। वहीं 66 को एलओसी के पास घुसपैठ करते वक्त मार गिराया गया। 

प्रेस कांफ्रेस में जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद भी शामिल रहे। यहां सेना और पुलिस ने मिलकर स्थानीय आतंकियों से घर वापस लौटने की अपील भी की। इस मौके पर डीजीपी वैद ने कहा , 'कश्मीर घाटी को अब हिंसा, आतंक, बंदूक और ड्रग्स से मुक्त होने की जरूरत है। हमारी एजेंसी और सेना के जवानों ने मिलकर सराहनीय कार्य किया।' 

बता दें कि शनिवार को कश्मीर घाटी के बांदीपुरा जिले के हाजिन में हुए एक एनकाउंटर में छह आतंकवादी मारे गए थे। मारे गए आतंकियों में अब्दुल रहमान मक्की का बेटा और मुंबई हमले के आरोपी व आतंकी जकीउर रहमान लखवी का भांजा ओवैद भी शामिल था। हमले में भारतीय वायुसेना की स्पेशल फोर्स गरुड़ का कमांडो शहीद हो गया था। 

सर्च ऑपरेशन की जानकारी देते हुए जेएस संधू ने बताया, 'इस साल हमने करीब 125-130 आतंकियों को कश्मीर घाटी के आंतरिक इलाकों में मार गिराया है। इसके बाद अब घाटी की स्थिति में काफी बदलाव आया है।' 

वहीं ले. जनरल ने बताया कि सितंबर मध्य से अब तक हाजिन में कई ऑपरेशन लॉन्च किए जा चुके हैं। यह ऑपरेशन रोज शुरू किए जा रहे हैं। शनिवार को हुए संयुक्त ऑपरेशन में मिली जीत पर सभी सुरक्षा एजेंसियों के काम की तारीफ भी की गई। डीजीपी और ले. जनरल ने कहा कि वह तीनों एजेंसी के काम की सराहना करते हैं जिनकी वजह से ऑपरेशन कामयाब रहा। 

वहीं स्थानीय लोगों के आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने पर ले.जनरल ने अफसोस जताते हुए कहा कि स्थानीय आतंकियों को खुद समझना चाहिए कि अपने आप को मुजाहिद कहना आसान है लेकिन क्या आप वाकई मुजाहिद हैं या फिर पाकिस्तान के लिए सिर्फ एक जरिये का काम कर रहे हैं। 

वहीं सेना और पुलिस की तरफ से स्थानीय आतंकियों से अपील की गई कि वे अपने घर लौट जाएं। यदि इसमें वे किसी तरह की मदद चाहते हैं तो सीआरपीएफ की मददगार हेल्पलाइन 14411 पर कॉल कर सकते हैं। हम उनकी हरसंभव मदद करेंगे और विश्वास दिलाते हैं कि वापस लौटने पर उनका स्वागत किया जाएगा। किसी तरह का टॉर्चर नहीं होगा।