महबूबा बोलीं-जिन्हे पैलेट लगी वे दूध लेने नहीं निकले थे

नई दिल्ली(25 अगस्त): जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने आज केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रेस की। महबूबा ने  कहा कि पथराव करने और सुरक्षा बलों के कैंप पर हमला करने से समस्या का समाधान नहीं होगा। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 95 फीसदी कश्‍मीरी शांति चाहते हैं और पांच फीसदी हिंसा।  

महबूबा ने और क्या कहा...

- 2010 की घटना और 2016 की घटना अलग है।

- सिर्फ 5 फीसदी लोग कर रहे परेशान

- प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सवालों का जवाब देते हुए महबूबा ने कहा कि कश्मीर के 95 फीसदी लोग अमन चाहते और बातचीत करना चाहते हैं, लेकिन सिर्फ 5 फीसदी लोग अपने हितों के लिए गलत राह पर हैं। महबूबा एक सवाल के जवाब को गलत तरीके से लिए जाने पर भड़क गईं।

- उन्होंने कहा कि कुछ लोग छोटे बच्चों को ढाल बना रहे हैं। यह गलत है और 'प्लीज' दो अलग-अलग घटनाओं की तुलना मत कीजिए। सवाल पूछने के क्रम में एक पत्रकार ने उमर अब्दुल्ला सरकार के काल से मुफ्ती सरकार की तुलना की थी।