News

जम्मू कश्मीर में अब हालात पूरी तरह से सामान्य- अमित शाह

खत्म किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर ( Jammu-And-Kashmir) में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। केंद्रीय गृहमंत्री (Home Minister) अमित शाह (Amit Shah) ने आज राज्यसभा (Rajya Sabha) में जम्मू-कश्मीर की स्थिति को लेकर बयान दिया। उन्होंने कहा कि वहां के हालात सामान्य हो चुके हैं। जम्मू-कश्मीर में आज सभी 195 थानों में कहीं पर धारा 144 नहीं है

Amit Shah

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 नवंबर): धारा 370  (Article 370) खत्म किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर (Jammu-And-Kashmir) में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। केंद्रीय गृहमंत्री (Home Minister) अमित शाह (Amit Shah) ने आज राज्यसभा (Rajya Sabha) में जम्मू-कश्मीर की स्थिति को लेकर बयान दिया। उन्होंने कहा कि वहां के हालात सामान्य हो चुके हैं। जम्मू-कश्मीर में आज सभी 195 थानों में कहीं पर धारा 144 नहीं है। सिर्फ एहतियात के तौर पर रात को 8 बजे से सुबह 6 बजे तक कुछ थानों में लागू किया गया है। साथ ही केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में जहां तक इंटरनेट सेवाओं को लागू करने का सवाल है तो उचित समय पर वहां के प्रशासन की अनुशंसा के आधार पर ही सुनिश्चित किया जा सकता है। गृहमंत्री ने कहा, 'कश्मीर में पड़ोसी देश के द्वारा बहुत सारी गतिविधियां चलती रहती है और वहां की कानून व्यवस्था और सुरक्षा को देखकर ही ये निर्णय लिया जा सकता है।' 

Amit Shah

केंद्र गृह मंत्री (Home Minister) ने कहा कि कश्मीर में पेट्रोल, डीजल, केरोसीन, एलपीजी और चावल उपलब्ध है। 22 लाख मीट्रिक टन सेब उत्पादन की उम्मीद है। सभी लैंडलाइन फोन चालू हैं। दुकानें लगातार खुल रही हैं। उन्होंने आगे कहा कि इंटरनेट (Internet)आज के लिए बहुत जरूरी है, जल्द चालू होना चाहिए पूरे देश मे 1995 -96 से मोबाइल (Mobile) शुरू हुआ। 2003 में बीजेपी सरकार (BJP Government) ने कश्मीर में शुरू किया। 2002 से इंटरनेट का परमिशन था लेकिन बाद में शुरू हुआ। जब सुरक्षा और आतंकवाद का सवाल है तो हमें भी नागरिकों की सुरक्षा के बारे में सोचना होगा। जैसे प्रशासन कहेगा इंटरनेट चालू हो जाएगा।

कश्मीर (Kashmir) के हालत कब तक सामान्य होंगे इसपर राज्यसभा में बोले अमित शाह (Amit Shah), 'वहां पूरी स्थिति सामान्य हो चुकी है। देश-दुनिया में कई तरह की भ्रांतिया इस बारे में फैली हुई है। राज्य में 5 अगस्त के बाद पुलिस फायरिंग की वजह एक भी व्यक्ति की जान नहीं गई है। पत्थरबाजी की घटनाओं में पिछले साल के मुकाबले कमी आई है। सभी स्कूल खुले है। परीक्षा अच्छे तरीके से ली जा रही है। सभी अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्र खुले हैं।' गृहमंत्री ने कहा कि दवाइयों की पर्याप्त मात्रा सुनिश्चित की गई है और दवाई के लिए मोबाइल वैन (Mobile Van) का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। अमित शाह ने आगे कहा कि  जम्मू-कश्मीर में दवाई की पर्याप्त उपलब्धता है, अस्पतालों में काफी संख्या में लोग ओपीडी में आ रहे हैं। कहीं भी स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं में कोई दिक्कत नहीं है।

जवाब देते वक्त विपक्षी सांसदों की ओर से कई बार आपत्ति दर्ज की गई। कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) को चैलेंज करते हुए अमित शाह ने कहा, 'मैं गुलाम नबी आजाद जी को कहना चाहता हूं कि रेकॉर्ड के आधार पर वह आंकड़ों को चैलेंज करें। सत्य को झुठलाया नहीं जा सकता है। मैं सिर्फ यही कहना चाहूंगा कि आप जो स्थिति है, उसे भी समझें सिर्फ अपने मन में जो है उसे ही न मानें।' 


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top