29 फरवरी को आम बजट पेश करेंगे अरुण जेटली

नई दिल्‍ली (14 जनवरी): केंद्रीय वित्त मंत्री आगामी सत्र 2016-17 के लिए आम बजट 29 फरवरी को संसद के पलट पर रखेंगे। नरेंद्र मोदी सरकार के 14 मई 2014 में सत्ता संभालने के बाद जेटली का यह दूसरा पूर्ण बजट होगा।

वित्त राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि बजट उच्च विकास दर हासिल करने के लिए आर्थिक सुधारों पर केन्द्रित होगा। बजट की तैयारियों को लेकर विभिन्न पक्षों से बजट पूर्व विचार-विमर्श 04 जनवरी से ही शुरू हो चुका है। उद्योग, अर्थशास्त्रियों, श्रमिक संघों और कृषि क्षेत्र समेत अन्य से जुड़े विशेषज्ञों से बजट से पहले हुए विचार-विमर्श में महत्वपूर्ण सुझाव सरकार के नीति निर्धारण में अहम भूमिका निभाते हैं।

सरकार ने बजट के लिए आम जनता से भी सुझाव मांगे हैं। बजट तैयारियों के सिलिसले में रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन भी जेटली से मिले हैं। राजन ने वित्तीय मजबूती के ढर्रे पर कड़ाई से अड़े रहने की जरूरत बताते हुए व्यय की जाने वाली राशि के बेहतर तरीके से इस्तेमाल पर जोर दिया है, जिससे विकास को पटरी पर लाया जा सके।

सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक विकास का लक्ष्य घटाकर सात से 7.5 प्रतिशत के बीच कर दिया है। इसके पहले अनुमान 8.1 से 8.5 प्रतिशत का लगाया गया था। जेटली की बजट टीम में मुख्य रूप से सिन्हा के अलावा मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम और नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढिय़ा हैं। इसके अलावा वित्त सचिव रतन वाटल, राजस्व सचिव हंसमुख अधिया और आर्थिक मामले विभाग के सचिव शक्तिकांता दास शामिल हैं।