नासमझ उठा रहे हैं नोटबंदी पर सवाल- जेटली

नई दिल्ली ( 31 अगस्त ): नोटबंदी पर विपक्ष के तीखे वार झेलने के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी के फायदे गिनाये और इसे सफल बताया। जेटली ने कहा कि टैक्स बेस बढ़ाने से लेकर टेरर फंडिंग रोकने तक, नोटबंदी हर मोर्चे पर सफल रही।  जेटली ने कहा कि कालेधन के खिलाफ लड़ाई को नहीं समझने वाले नोटबंदी की कवायद पर सवाल उठा रहे हैं। जेटली ने कहा कि नोटबंदी का प्रमुख उद्देश्य भारत की इकॉनमी को कैश केंद्रित से डिजिटाइजेशन की तरफ मोड़ना था। जेटली ने कहा कि आरबीआई के आंकड़े भी इसकी गवाही दे रहे हैं और कैश करंसी में कमी आई है। जेटली ने कहा कि नोटबंदी का उद्देश्य पैसे को जब्त करना नहीं था। 

वित्त मंत्री ने कहा कि नोटबंदी के बाद डायरेक्ट टैक्स का बेस बढ़ा है। कैश करंसी में डील करने वाले बैंकों में पैसा जमा करने के लिए मजबूर हुए। सिस्टम में आने के बाद पैसों की मिल्कियत का पता चला है। इनडायरेक्ट टैक्स बेस भी बढ़ा है। नोटबंदी के दौरान डिजिटाइजेशन के लिए माहौल बना। वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि पहली बार एक-एक जाली नोट को अलग करने का प्रयास हुआ है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का उद्देश्य टेरर फंडिंग पर लगाम लगाना था। जेटली ने दावा किया कि जम्मू-कश्मीर और छत्तीसगढ़ में इसका असर दिख रहा है। उन्होंने कहा कि पत्थरबाज पहले से बेअसर हुए हैं।