नोटबंदी पर लोकसभा में विधेयक पेश, TMC ने किया विरोध

नई दिल्ली (3 फरवरी): केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 500 और 1000 रुपये के नोटों पर औपचारिक प्रतिबंध के लिए आज लोकसभा में एक विधेयक पेश किया। यह विधेयक 2017 नोटबंदी के संबंध में दिसंबर 2016 में जारी सरकारी अध्यादेश की जगह लेगा।

जैसे ही वित्तमंत्री विधेयक को पेश करने के लिए खड़े हुए, तृणमूल कांग्रेस के सदस्य सौगत रॉय ने उनका विरोध किया। उन्होंने इस विधेयक को 'अवैध' बताया। सदन में इसे लेकर जुबानी जंग भी हुई। जेटली और तृणमूल कांग्रेस के नेता ने इस मुद्दे को लेकर एक दूसरे पर हमला बोला।

सौगत रॉय ने कहा कि वह जेटली के 'बोलने के अधिकार' पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री को राज्यसभा में जाना चाहिए और वहां बोलना चाहिए। इसके जवाब में मंत्री ने सदस्य के विधेयक के विरोध के अधिकार पर सवाल उठाया और कहा कि उनकी आपत्ति विधायी क्षमता से कुछ अलग है। उनकी आपत्ति है कि यह एक अच्छा विधेयक नहीं है।

अरुण जेटली ने कहा कि सरकार अपने अधिकार के तहत नोटबंदी को लागू करने में सही रही। उन्होंने कहा कि 8 नवंबर को अधिसूचना धारा 26-2 के तहत थी, आरबीआई को आदेश पारित करने की क्षमता है। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के सदस्य पर निशाना साधा और कहा कि यह उनके लंबे संसदीय अनुभव में वृद्धि करेगा।

रॉय की आपत्ति को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने खारिज कर दिया और विधेयक को निचले सदन में पेश किया गया।