जेटली ने मुनचिन से कहा-H1B वीजा सख्त किया तो खमियाजा भुगतेगा अमेरिका


नई दिल्ली (24 अप्रैल): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अमेरिका में एच-1बी वीजा नियम को और सख्त बनाने की ट्रंप प्रशासन की योजना पर भारत की चिंता को अमेरिकी वित्त मंत्री स्टीवन मनुचिन के सामने जोरदार तरीके से उठाया है। जेटली ने स्टीवन को यह भी बताया है कि उच्च कौशल वाले भारतीय पेशेवर अमेरिकी अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। अगर भारतीयों के साथ एचवन बी वीजा पर सख्ती की गयी तो अमेरिका को ही खामियाजा भुगतना पड़ेगा। दरअसल, अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने एच-1बी वीजा कार्यक्रम से जुड़े नियमों को कड़ा करने के आदेश पर बीते हफ्ते दस्तखत किए हैं। 


इसका मकसद एच-1बी वीजा के दुरुपयोग को रोकना और यह सुनिश्चित करना है कि अमेरिका में अपेक्षाकृत ज्यादा कुशल कामगारों को ही एंट्री मिले। वहीं वर्ल्ड बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की विकास समिति की संयुक्त बैठक में जेटली ने शनिवार को कहा कि ‌वर्ल्ड बैंक को विकासशील और संक्रमण के दौर से गुजर रहे देशों (डीटीसी) के बढ़ रहे प्रभाव के अनुरूप सिलेक्टिव कैपिटल इनक्रीज (एससीआई) के संबंध में फैसला लेने की जरूरत है, साथ ही उसे जनरल कैपिटल इनक्रीज (जीसीआई) के जरिये वार्षिक कर्ज में वृद्धि करने की जरूरत है।