शिक्षक बना हैवान, 25 बच्चों का किया सेक्शुअल हैरेसमेंट

जयपुर(11 फरवरी): शिक्षक को हमारे यहां भगवान का दर्जा मिला है। लेकिन वही शिक्षक अगर छात्रों के साथ हैवानियत वाला व्यवहार करे तो आप क्या कहेंगे। जी हां राजस्थान की राजधानी जयपुर में 26 साल की एक शिक्षक ने कुछ ऐसा ही किया है।

-26 साल का रमीज 5 से 15 साल के बच्चों का न केवल हैरेसमेंट करता था, बल्कि उनकी वीडियो क्लिपिंग बनाकर उन्हें डराता भी था।

- पुलिस को उसके मोबाइल से 76 क्लिपिंग मिली हैं। शुरुआती जांच में 25 बच्चों के यौन शोषण की बात सामने आ रही है, लेकिन यह नंबर और बढ़ सकते हैं।

- जांच में सामने आया है कि रमीज तीन साल से यह घिनौना काम कर रहा था। सोमवार को वॉट्सऐप ग्रुप में एक वीडियो अपलोड होने के बाद बच्चे के परिवार तक पहुंच गया। परिवार ने इसकी शिकायत पुलिस में की। रमीज इसकी भनक लगते ही फरार हो गया था।

- पुलिस ने गुरुवार को रमीज को गिरफ्तार किया। शुक्रवार को पूछताछ के दौरान उसने बच्चों के सेक्शुअल हैरेसमेंट की बात कबूल की।

- पुलिस को उसके पास दो पेन ड्राइव व हार्ड डिस्क होने की जानकारी भी मिली है। इसके बारे में पूछताछ की जा रही है।

- शुक्रवार को एक और बच्चे के परिजन शिकायत लेकर थाने पहुंचे।

- एडिशनल एसपी नॉर्थ समीर दुबे ने बताया कि रमीज के मोबाइल में मिली क्लिपिंग को देखने पर लग रहा है कि वह किसी दूसरे की मदद से बनाई गई है।

- ऐसे में, पुलिस को शक है कि रमीज का संबंध किसी पोर्न साइट से हो सकता है। पुलिस जांच कर रही है कि वह अश्लील क्लिपिंग्स को बेचता तो नहीं था।

- आरोपी रमीज एक निजी स्कूल में वाइस प्रिंसिपल था।

- बताया जा रहा है कि रमीज से पीड़ित कुछ छात्रों ने स्कूल के कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क निकाल कर स्कूल प्रशासन को दी थी। इसमें बच्चों की क्लिपिंग थी।

- स्कूल ने रमीज को तो 23 जनवरी को निकाल दिया, लेकिन मामले को दबा दिया। रमीज एमए, बीएड है और स्कूल में अंग्रेजी विषय पढ़ाता था।

- इससे पहले भी रमीज को दो स्कूलों से निकाला जा चुका था। पुलिस हार्ड डिस्क को बरामद करने का प्रयास कर रही है।

- पुलिस की जांच में सामने आया है कि रमीज जिस स्कूल में पढ़ाता था, उसके बच्चों को गारंटी से पास कराने की बात कहकर ट्यूशन के लिए बुलाता था।

- रमीज किसी बच्चे की अश्लील क्लिप बनाता था और बाद में उसी को दिखाकर अन्य बच्चे से रिकॉर्डिंग भी कराता था।

- पीड़ित बच्चों ने जानकारी दी है कि रमीज डरा-धमकाकर घर से पैसे लाने के लिए भी मजबूर करता था।

- पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने कहा- "थाने में मामला दर्ज नहीं करने के मामले की जांच की जा रही है। मैं खुद मामले की मॉनिटरिंग कर रहा हूं। कोई भी परिजन मामले की सूचना गुप्त रूप से दे सकता है। उनकी पहचान उजागर नहीं की जाएगी।"

- एक स्टूडेंट ने बताया कि टीचर स्कूल में फेल करने की धमकी देकर ट्यूशन के लिए मजबूर करता था। जब उनके घर पढ़ने गए तो वहां कम्प्यूटर में रखी गंदी फिल्में दिखाता था और हमारे व दूसरे दोस्तों के साथ गंदा काम करता था।

- ''पहले तो डर लगा, लेकिन बाद में उसने कहा कि कुछ नहीं होगा। यह भी धमकी दी कि घर वालों को या स्कूल में किसी को बताया तो फेल कर दूंगा।''

- ''धमकी देकर घर से पैसे भी मंगवाता था। कई बार हमने उसे पैसे भी दिए, पैसे घर से चोरी करते थे।''

- दूसरे स्टूडेंट ने बताया कि मेरी पढ़ाई अच्छी चल रही थी, नंबर भी अच्छे लाता था, लेकिन टीचर ने फिर भी फेल करने की धमकी दी और ट्यूशन पर बुलवा लिया।

- ''उसने गंदे काम करने को कहा और फेल होने की धमकी के कारण हम कुछ नहीं बोले। मम्मी-पापा को बताने पर घर पर पिटाई का डर था, इसलिए किसी को नहीं बताया।''

बच्चों के सर ऐसे होंगे, सोचा न था

- एक पैरेंट ने बताया कि बच्चों की पर्सेंट अच्छी बनने और दूसरे बच्चों से ज्यादा नंबर लाने के लिए मैंने बच्चे को ट्यूशन पर भेज दिया। मुझे तो विश्वास भी नहीं हो रहा कि मेरे बच्चे के साथ ऐसा हुआ। बच्चा घर पढ़ाई नहीं करता तो उसे हम टीचर को बताने की धमकी देते थे और टीचर की तारीफ करते थे, जबकि अब सोचकर दिल दहल जाता है कि बच्चा वहां जाकर धमकियों का शिकार हो रहा था।

- रमीज एक प्राइवेट स्कूल में वाइस प्रिंसिपल भी था। उसकी हरकतों से परेशान बच्चे 20 दिन से स्कूल एडमिनिस्ट्रेशन को उनके साथ हो रही हरकत को बताया लेकिन स्कूल ने बच्चों की सुनवाई नहीं की और रमीज को 23 जनवरी को स्कूल से निकाल दिया।

- स्कूल ने मामला सामने आने के बाद भी आरोपी की पुलिस को सूचना नहीं दी। आरोपी की गिरफ्तारी होने पर शुक्रवार को कुछ स्टूडेंट रामगंज थाने पहुंच गए। उन्होंने पुलिस को उसकी करतूत के बारे में बताया।

- मामला लीक होने से पहले स्कूल प्रशासन की जानकारी में चुका था। स्कूल ने मामला 20 दिन तक दबाया रखा।

- क्लिपिंग लीक होने के बाद परिजनों को पता चला तो रामगंज थाने पहुंचे। परिजनों ने सोमवार को स्कूल में शिकायत की।

- स्कूल ने रमीज को 23 जनवरी को स्कूल से निकाल देने के बारे में परिजनों को बताया।