जयपुर में 2000 के नकली नोटों की खेप जब्त

जयपुर(6 मार्च): एसओजी ने आज एक बडी कार्रवाई को अंजाम देते हुए नई करेंसी के 2 हजार रूपयों के नकली नोटों की एक बडी खेप के साथ एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। एसओजी पिछले तीन महीने से नकली नोट की तस्करी करने वाली गैंग पर अपनी नजर रखे हुए थी और आज एसओजी को गैंग के एक सदस्य द्वारा 2 हजार रूपए के नकली नोटों की एक बडी खेप के साथ जयपुर आने की सूचना मिली जिसके बाद एसओजी ने कार्रवाई को अंजाम देते हुए नकली नोटों की खेप के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार कर लिया।

- एसओजी को सूचना मिली की एक व्यक्ति पश्चिम बंगाल से नकली नोटों की खेप लेकर जयपुर आ रहा है जो बस द्वारा खासा कोठी चौराहे के आसपास पहुंचेगाजिसपर एसओजी टीम ने खासा कोठी चौराहे के पास टीम को तैनात किया और जैसे ही संदिग्ध व्यक्ति वहां पहुंचा उसे दबोच लिया।

- एसओजी टीम ने व्यक्ति के बैग की तलाशी ली तो उसमें 2 हजार रूपए के 165 नकली नोट बरामद हुए। एसओजी टीम ने मौके पर ही आरोपी विरेन्द्र सिंह यादव को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी से बरामद 3 लाख 30 हजार रूपए की नकली करेंसी लेकर एसओजी टीम एसओजी मुख्यालय पहुंची जहां एसओजी अधिकारियों ने आरोपी से पूछताछ शुरू की।      - आरोपी विरेन्द्र सिंह यादव से हुई पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ है कि आरोपी पश्चिम बंगाल के उस जिले से नकली नोट की खेप लेकर जयपुर आया है जो बांग्लादेश की सीमा से सटा हुआ है। आरोपी ट्रेन और बस बदल—बदल कर जयपुर तक पहुंचा है। आरोपी को नकली नोटों की यह खेप जयपुर में एक व्यक्ति को देनी थी और बदले में आधी राशी उस व्यक्ति से लेनी थी यानी की 3 लाख 30 हजार के नकली नोट व्यक्ति को देकर उससे 1 लाख 65 हजार रूपए लेने थे। एसओजी अधिकारी यह नोट बांगलादेश से भारत में आने का अंदेशा जता रहे हैं। फिलहाल इस बारे में जांच जारी है।

    - नकली नोट की तस्करी के इस पूरे खेल के पिछे एक बहुत बडी गैंग काम कर रही है। गैंग के सदस्य बांगलादेश और अन्य देशों ने नकली नोटों की खेप मंगाते हैं और फिर पूरे भारत में अलग—अलग राज्यों में यह नकली नोटों की खेप पहुंचाने का काम किया जाता है।