चारा घोटाला: बरी होने के बाद बोले जगन्नाथ मिश्रा, सत्य और न्याय की जीत हुई

नई दिल्ली ( 23 दिसंबर ): चारा घोटाले के मामले में लालू यादव को रांची की स्पेशल कोर्ट ने दोषी करार दिया है। अगले साल तीन जनवरी को सजा का एलान होगा। फिलहाल पुलिस ने लालू यादव को अपनी हिरासत में लिया है। लेकिन चारा घोटाला मामले में पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा को कोर्ट ने बरी कर दिया। 

चारा घोटाला मामले में आरोपों से बरी होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा ने कोर्ट के फैसले को सच की जीत बताया है। साथ ही उन्होंने आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि जब वह लालू यादव के राजनीतिक विरोधी रहे हैं तो उनके साथ घोटाले में शामिल कैसे हो सकते हैं। 

पत्रकारों से बात करते हुए मिश्रा ने कहा, 'यह सच और न्यायपालिका की जीत है। हम इंतजार करते हैं, बहुत कुछ झेलते भी हैं लेकिन अंत में जीत न्याय की ही होती है।' उन्होंने कहा कि जब घोटला हुआ तब वह मंत्री भी नहीं थे। उन्होंने कहा कि वह लालू यादव के राजनीतिक प्रतिद्वंदी रहे हैं। उन्होंने सवाल किया कि वह एक ऐसे व्यक्ति के साथ किसी घोटाले में कैसे शामिल हो सकता हूं जिसने मेरे साथ बुरा व्यवहार किया। 

जनवरी 1996 में करीब 950 करोड़ का चारा घोटाला सामने आया था। अक्टूबर 2013 में रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने 3 अक्टूबर को चाइबासा कोषागार से फर्जी निकासी मामले में लालू, जगन्नाथ मिश्र समेत अन्य को सजा सुनाई।