चमत्कार! भूकंप के 17 घंटे बाद मलबे से जिंदा बाहर आई 10 साल की बच्ची

नई दिल्ली (25 अगस्त) : इटली के मध्य में बुधवार आए 6.2 तीव्रता वाले शक्तिशाली भूकंप में कम से कम 247 लोगों की मौत हो गई। अनेक पहाड़ी गांव पूरी तरह तबाह हो गए। हजारों की संख्या में लोग बेघर हो गए। 400 लोग घायल हैं, कुछ की हालत गंभीर है। 150 लोगों का अभी कुछ पता नहीं चला है। इन लोगों के मलबे के नीचे दबे होने की आंशका है। 

भूकंप की तबाही के बीच दर्जनों आपातकालीन सेवाएं, कर्मचारी और स्वयंसेवक मलबे में दबे कई लोगों को बाहर निकाल की कोशिश कर रहे हैं। इसी कोशिशों के बीच एक चमत्कार हुआ है। पिस्कारा डेल टोरंटो गांव में उस समय खुशी की लहर दौड़ गई जब एक 10 साल की लड़की भूकंप के 17 घंटे बाद मलवे से जिंदा निकाली गई। बच्ची को अस्पताल ले जाया जा रहा है। अच्छी खबर ये है कि उसे कोई चोट नही आई है।

कोई खरोंच तक नहीं आई बच्ची को...  - पिस्कारा डेल टोरंटो गांव में रेस्क्यू में जुटी टीम ने जैसे ही देखा कि मलबे में दबी लड़की जिंदा है।  - इसके बाद तुरंत टीम उसे निकालने में जुट गई, हैरान करने वाली बात है कि बच्ची को कोई खरोंच तक नहीं आई है। - सबसे अधिक नुकसान अम्ब्रिआ, लाटजियो और ले मार्स के पहाड़ी इलाके में हुआ है। - अभी भी जगह-जगह मलबे का ढेर लगा है।  - लोगों ने राहत कैम्प, घर के बाहर और सड़कों पर रात गुजारी, अभी कुछ इलाकों में राहत नहीं पहुंच पाई है। - बता दें कि मंगलवार तड़के स्थानीय समयानुसार 3 बजकर 36 मिनट पर आया था भूकंप। - रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 6.2 मापी गई थी।

भूकंप के बाद लगतार लगते रहे 200 से ज्यादा छोटे झटके... - भूकंप करीब 20 सेकंड तक महसूस किया गया।  - इसके बाद 200 आफ्टर शॉक्स महसूस किए गए।  - इनमें से कुछ तीव्रता 5.2M थी। - पेस्कारा देल रोंतो गांव मलबे में तब्दील हो गया है।  - वहीं, एक्यूमोली, एमाट्रिस, इन लाजियो, पेस्कारा देल रोंतो, इन मार्श करीब-करीब आधे बर्बाद हो गए है। - USGS के मुताबिक, इसका एपिसेंटर पेरुगिया प्रॉविंस के उम्ब्रिया शहर के पास 10 किमी जमीन के नीचे था। - बता दें पिछले 700 सालों में इस रीजन में 6 बड़े भूकंप आ चुके हैं।  - इनमें 1700 AD का 6.0 का भूकंप भी शामिल है, इसमें 10 हजार लोग मारे गए थे।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=qJAhRg34G7k[/embed]