धरती और समुद्र के बाद आसमान में भी फैल चुका है प्लास्टिक कचरा

नई दिल्ली ( 21 सितंबर ): प्लास्टिक ने धरती और समुद्र के बाद अब आसामान को भी प्रदूषित कर दिया है। यह खबर भारत के उत्तरी इलाकों में रहने वालों के लिए चौंकाने वाली और चिंता से भरी है। आने वाले सालों में मौसम में तेजी से बदलाव आयेगा। धरती का तापमान बढ़ सकता है। ऋतु चक्र में भयानक गड़बड़ी होगी। रेगिस्तान में भारी बारिश और मैदानों में सूखा पड़ेगा। सबसे ज्यादा असर पेड़-पौधों, खेती और फसलों पर होगा।

इसरो और नासा की संयुक्त टीम को मिली चौंकाने वाली जानकारी- खतरों से भरे हैं आने वाले दिन

इसरो और नासा की संयुक्त टीम ने पता लगाया है कि धरती की सतह से ऊपर 16 से 18 किलोमीटर के बीच एक खास तरह के बादलों की चादर बन गयी है। विज्ञान की भाषा में इसे एयरोसोल कहते हैं। इस एयरोसोल में नाईट्रेट की मात्रा सबसे ज्यादा है। इसके अलावा इन बादलों में प्लास्टिक के कणों की मात्रा बहुत ज्यादा है। इन बादलों का दुष्प्रभाव ओजोन लेयर पर भी हो रहा है।