चंद्रमा पर चंद्रयान-2 की उतारने की तैयारी में ISRO

नई दिल्ली ( 4 फरवरी ): भारतीय अंतरिक्ष शोध अनुसंधान (इसरो) जल्द ही एक और कीर्तिमान रचने की तैयारी कर रहा है। इसरो अपना चंद्रयान-2 जल्द रवाना करेगा, जिसकी मदद से चांद के रहस्य और करीब से जानने में मदद मिलेगी। दिलचस्प बात है कि ऐसा पहली बार होगा जब भारत का चंद्रयान 2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास उतरेगा। इस साहसिक अभियान में कई सारी चुनौतियां भी हैं। 

पिछले महीने ही इसरो चीफ के पद से रिटायर हुए ए. एस. किरण कुमार ने कहा, 'हमने इस अभियान के लिए दो स्थानों का चयन कर लिया है, जिसमें से किसी एक को फाइनल किया जाएगा। उस एरिया में अभी तक कोई भी दूसरा चंद्रमा मिशन नहीं लैंड हुआ है।' 

चंद्रमा मिशन के लिए तमिलनाडु के महेन्द्र गिरी में स्थित इसरो के लिक्विड प्रोपल्शन सिस्टम सेंटर में तैयारी चल रही है। इस प्रैक्टिस में 70-80 मीटर की ऊंचाई से यान के एक नमूने को लैंड कराया जाएगा। 

किरण कुमार ने बताया, 'लॉन्च के लिए चंद्रयान-2 फ्लाइट के हार्डवेर को तैयार किया जा रहा है। यह अभियान इस साल की पहली या फिर दूसरी तिमाही में लॉन्च हो सकता है। चंद्रयान-2 को जियोसिन्क्रोनस सैटेलाइट लॉन्च वीइकल मार्क 2 रॉकेट के साथ लॉन्च किया जाएगा।'