BREAKING: ISRO का एक और करिश्मा, क्रायोजेनिक इंजन का किया सफल परीक्षण

नई दिल्ली (17 फरवरी): भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान यानी ISRO ने एक और करिश्मा किया है। ISRO ने क्रायोजेनिक इंजन-डी का सफल परीक्षण किया है। जीएसएलवी एमके तृतीय के उच्च स्तरीय क्रायोजेनिक का पूर्ण कालिक परीक्षण हुआ।

इस मौके पर ISRO के चेयरमैन एएस किरण कुमार ने बताया कि C-25 पेलोड का सफल परीक्षण किया जिसकी 400 टन क्लास के उपग्रह ले जाने की क्षमता है। GSLV मार्क-3 C-25 उपग्रह के लांच के लिए यह परीक्षण किया गया है। इस इंजन का उपयोग इसी साल अप्रैल से शुरू किया जाएगा। शुक्रवार का परीक्षण वास्तविक राकेट लांच में जाने वाली श्रृंखला का आखिरी था।

इससे पहले ISRO ने बुधवार को 104 सैटेलाइट लांच कर देश को गर्व का एक और मौका दिया। इस उपलब्धि के बाद दुनिया के कई छोटे-बड़े देश अपनी सैटेलाइट लांच कराने के लिए भारत का रुख कर रहे हैं। अंतरिक्ष विज्ञान की दुनिया में इसरो की इस कामयाबी ने भारत को अमरीका और रूस से भी आगे खड़ा कर दिया है।