इस्राइल के साथ मिलकर ये काम करेगा भारत, उड़ी पाकिस्तान की नींद

नई दिल्ली (16 फरवरी): भारत लगातार दुनिया में अपनी ताकत का लोहा मनवा रहा है। अब उसने रक्षा क्षेत्र में एक और बड़ी कामयाबी हासिल करने की तरफ कदम बढ़ा दिए हैं। इसरायली कंपनी, इसरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (IAI) तथा बेंगलुरू की डायनामाइट टेक्नोलॉजी लिमिटेड (DTL) ने भारत में छोटे मानव रहित विमान बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।

‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत भारतीय जरूरत के अनुसार छोटे मानव रहित विमान के निर्माण के लिए यह समझौता आईएआई से डीटीएल को प्रौद्योगिकी तथा उत्पादन क्षमता के हस्तांतरण को मंजूरी प्रदान करेगा। इस समझौते पर हस्ताक्षर यहां जारी एयरो इंडिया में किया गया।

IAI इसरायल में मिसाइल, ड्रोन, उपग्रह, हथियार प्रणाली व विस्फोट, मानवरहित व रोबोटिक प्रणाली एवं राडार बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी है। भारत IAI के बड़े ग्राहकों में से है। इस मौके पर IAI के सैन्य विमान समूह के महाप्रबंधक शाउल शहर ने कहा कि भारत IAI का एक प्रमुख रणनीतिक ग्राहक है। मेक इन इंडिया नीति के तहत, हमारी योजना निकट भविष्य में भारत को हमारी यूएवी गतिविधि के एक महत्वपूर्ण हिस्से को हस्तांतरित करने की है।

DTL के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) तथा प्रबंध निदेशक उद्यंत मल्होत्रा ने कहा कि हमारी कंपनी पहले ही वैश्विक ओईएम (ऑरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चर्स) के लिए निर्माण कार्य कर चुकी है और हम भारत में पहले ही मजबूत आपूर्ति श्रृंखला पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण कर चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘यह बुनियाद है, जिस पर विश्वस्तरीय मानव रहित विमानों के औद्योगिकरण का विकास किया जाएगा।’