'फिलिस्तीन पर और सख्त हो सकता है इजरायल का रुख'

नई दिल्ली (26 मई): इज़रायल के इतिहास में पहली बर धुरदक्षिणपंथी पार्टी सरकार में शामिल हो रही हैं। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने लीबरमेन और उनकी कट्टरंपथी  इसरायल बीतेन्यू पार्टी के साथ एक समझौता किया है। इस समझौते के अनुसार लीबरमेन को देश के रक्षामंत्री का पद दिया जा सकता है। लीबरमैन के विषय मे कहा जाता है कि वो फिलिस्तीनियों के साथ कट्टरता से निपटने के पक्ष में रहते हैं।

वो यह भी कहते रहे हैं कि इस समस्या से जल्दी निजात पाने के लिए फिलिस्तीनियों को फांसी दी जानी चाहिए। नेतान्याहू की सरकार में धुर दक्षिणपंथीकट्टर नेताओं के शामिल होने से इजरायल के मध्यम मार्गी और वामपंथी नेताओँ के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गयी हैं। नेतान्याहू के सहयोगी कुछ पूर्व सहयोगियों का कहना है कि पहले से कुछ धार्मिक राष्ट्रवादियों के सरकार में होने और अब धुर दक्षिणपंथियों का मिल जाना इस बात का संकेत देते हैं कि इजरायल सरकार फासिज्म की ओर बढ़ रहा है।