विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक का पासपोर्ट रद्द

नई दिल्ली (18 जुलाई): विवादित इस्लामिक उपदेशक और धर्म प्रचारक जाकिर नाइक का पासपोर्ट रद्द कर दिया गया है। मंगलवार को राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) के सामने उपस्थित नहीं होने के बाद यह कार्रवाई की गई। मुंबई पासपोर्ट ऑफिस ने जाकिर नाइक का पासपोर्ट रद्द कर दिया है। जाकिर नाइक 1 जुलाई 2016 से देश से बाहर है। एनआइए आतंकवाद मामले में जाकिर नाइक की जांच कर रही है। बीते साल ढाका आतंकवादी हमले के बाद एनआईए ने नाइक तथा मुंबई स्थित इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन नामक उसके गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के अन्य अधिकारियों खिलाफ एक मामला दर्ज किया था।

इससे पहले राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक विशेष अदालत ने आतंकवाद से संबंधित एक मामले में भूमिका के लिए वांछित विवादित इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक के खिलाफ 20 अप्रैल को एक गैर-जमानती वारंट जारी किया था। एनआईए ने विशेष न्यायाधीश वी.वी.पाटिल को सूचित किया कि पिछले साल गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत दायर मामले में नाइक ने तीन समन का जवाब नहीं दिया, जिसके बाद अदालत ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किय। एनआईए ने कहा कि नाइक को विदेश से वापस भारत लाने के लिए अब उसे इंटरपोल की मदद की जरूरत है।

मौजूदा वक्त में नाइक विदेश यात्रा पर है और आतंकवादी गतिविधियों की साजिश रचने तथा धन शोधन के तहत मामलों में गिरफ्तारी के डर से भारत नहीं लौट रहा है। केंद्र सरकार ने दिसंबर में नाइक के एनजीओ व उसके शैक्षणिक संस्थान ट्रस्ट को आतंकवादी संगठन घोषित करने के बाद उसका एफसीआरए लाइसेंस स्थायी तौर पर रद्द कर दिया।