'बंधक लड़कियों को यौन गुलामों की तरह ऑन लाइन बेच रहा है ISIS'

नई दिल्ली (29 मई): अभी तक सोशल मीडिय पर सिर्फ आतंक फैलाने और जिहाद के नाम पर युवाओं को बहकाने वाले आईएसआई के गुर्रे अब सोशल मीडिया पर सेक्स स्लेब्स की नीलामी करने लगे हैं। ये वो निरीह यज़ीदी और क्रिश्चियन  लड़कियां हैं जिन्हें आईएसआईएस के हमलावर गिरोहों ने सीरिया और ईराक से अगवा किया या हमलों के दौरान बंधक बनाया है।'वॉशिंगटन पोस्ट' मुताबिक, 20 मई को को अबू असद अलमानी कहने वाला इस्लामिक स्टेट का आतंकी फेसबुक पर पोस्ट करता है, 'गुलाम खरीदने के बारे में सोच रहे हो भाई लोग, इसकी कीमत 8000 डॉलर है।

' यही शख्स कुछ ही घंटों के भीतर फेसबुक पर फिर एक फोटो पोस्ट करता है लेकिन इस बार पीले चेहरे वाली लड़की होती है जिसकी लाल रंग की आंखें दरिया हुई जाती है। ऐसा लगता है कि शारीरिक शोषण के बाद उसे काफी मारा-पीटा गया है। अबू असद अलमानी फिर पोस्ट करता है, 'एक और गुलाम। इसकी कीमत भी तकरीबन 8000 डॉलर ही है। हां या नहीं?' फेसबुक इन तस्वीरों को कुछ ही घंटों के भीतर हटा लेता है। यह साफ नहीं हो पाया कि अबू असद अलमानी यह खुद कर रहा था या फिर किसी और की तरफ से ऐसा कर रहा था।  

इस घटना पर विशेषज्ञों का कहना है कि आईएसआईएस के जाल में फंसी सैकड़ों लड़कियों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार हो रहा है। उनका यौन शोषण किया हो रहा है और वो नरक जैसी मुसीबतों के दौर से गुजर रही हैं। आतंकवाद मामलों के जानकारों और मानवाधिकार समूहों का कहना है कि आईएसआईएस  पर इराक और सीरिया में जिस तरह से दबाव बढ़ रहा है, उसका खामियाजा महिला गुलामों को भुगतना पड़ रहा है। 

पैसा-खाने-पीने के सामान और दवाओं के संकट से जूझ रहे आईएसआईएस के आतंकवादी अपने कब्जे वाली लड़कियों को गुलामों को खरीद-बेच रहे हैं। आईएसआईएस इस कारोबार के लिये अब सोशल मीडिया का इस्तेमाल बेधड़क कर रहा है। ऐसी सेक्स स्लेब्स की खरीद-बिक्री के'नियम-कायदे' भी बना लिए हैं।