31 हज़ार औरतों के पेट में पल रहे हैं ISIS के आतंकी

नई दिल्ली (8 मार्च): दुनिया भर में खौफ का पर्याय बना आतंकी संगठन आईएसआईएस ने आतंकियों की नई पीढ़ी तैयार करने के लिए तीस हजार से ज्यादा महिलाओं को गर्भवती कर दिया है। इन महिलाओं का इस्तेमाल आईएसआईएस के आतंकी पैदा करने के लिेए किया जा रहा है। लंदन के चरमपंथ विरोधी थिंकटैंक 'क्विलियम' की रिपोर्ट 'चिल्ड्रन ऑफ इस्लामिक स्टेट' में यह दावा किया गया है। इस रिपोर्ट पर  संयुक्त राष्ट्र ने भी भरोसा जताया है।

 'द इंडिपेंडेंट डॉट को डॉट यूके' में छपी इस रिपोर्ट में बताया गया है कि आईएसआईएस कैसे बच्चों की भर्ती कर उन्हें जिहाद के लिए तैयार करता है। बच्चों की ट्रेनिंग का यह सिलसिला स्कूल से लेकर उनके घर तक चालू रहता है। आईएसआईएस अपने मिशन के लिए बच्चों को वयस्कों की तुलना में ज्यादा घातक हथियार मानता है। आईएसआईएस बच्चों को बचपन से ही क्रूरता का पाठ पढ़ाया जाता है। इसके लिए उन्हें कटे हुए सिर से फुटबॉल खेलने जैसे खेल खेलने के लिए प्रेरित किया जाता है।

'द इंडिपेंडेंट डॉट को डॉट यूके' क्विलियम की रिसर्चर निकिता मलिक के हवाले से लिखता है कि आईएसआईएस के अंदर मुजाहिदीनों की अगली पीढ़ी तैयार करने का एक तयशुदा सिस्टम है। कथित इस्लामिक स्टेट में 31 हजार महिलाएं गर्भवती हैं। यह यूं ही नहीं है। इन बच्चों के लिए एक लॉन्ग टर्म तैयारी है। इसके तहत कट्टरपंथी माहौल में उनकी परवरिश और इस्लाम वन नेशन की भावना भरने जैसी बातें शामिल हैं।