यूएन ने जताई चिंता, डरे ISIS आतंकियों ने 500 परिवारों को बनाया ढाल

नई दिल्ली ( 21 अक्टूबर ) : संयुक्त राष्ट्र ने शुक्रवार को इराक के दूसरे सबसे बड़े शहर मोसुल में आईएसआईएस द्वारा 550 परिवारों को कब्जे में लिए जाने और अपने बचने के लिए उनको मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल करने को लेकर चिंता जताई। इराक और कुर्द लड़ाकों ने मोसुल को आईएसआईएस से आजाद कराने भीषण जंग छेड़ी है। इराकी सुरक्षा बल जैसे-जैसे नजदीक बढ़ रहे हैं, आईएस नागरिकों का इस्तेमाल ढाल के रूप में कर रहा है. समालिया गांव के दो सौ परिवारों और नज़ाफिया गांव के  350 परिवारों को आईएसआईएस अपना ढाल बनाने के लिए रोक रखा है। इस बीच आईएसआईएस आतंकियों ने मोसुल से 175 किमी दूर दक्षणि में किरकुक में सुरक्षा इमारतों पर हमला किया है। 

वहां के ताजा हालात 

-वहां पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार की प्रमुख ने बताया, आईएस ने आम नागरिकों को गोली मारकर हत्या की है। 

-करीब 30 आईएसआईएस आतंकवादियों ने दक्षिणी किरकुक में एक इमारत को अपने कब्जे में ले लिया है और सुरक्षा बलों के साथ गोलाबारी जारी है। 

-एक अलग जगह दिबिस में आईएस के हमले में 12 लोग मारे गए। 

-इराक की नेतृ्त्व वाली सेनाओं ने 100 किमी को आईएस से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया है। 

ISIS आम नागरिकों को मार रहा है

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त का कहना है कि आईएसआईएस मजबूर नागरिकों को मार रहा है.आतंकियों के कमांडरों ने मोसुल में आईएस के रहमो-करम पर रह रहे लाखों नागरिकों की जिंदगी दांव पर लगा दी है। उन्हें मोसुल के बाहरी इलाकों में जाकर रहने का फरमान सुनाया है। ऐसा करने के पीछे उनका मकसद साफ है कि बेकसूर नागरिक इराकी और पेशमरगा सैनिकों के सामने आकर उनकी गोलियों की निशाना बन जाएं और मौका पाकर आतंकी वहां से निकल भागने में कामयाब हो जाएं। हम इसे लेकर चिंतित हैं कि आईएसआईएस आम नागरिकों को निशाना बना रहा है।

आईएसआईएस के खिलाफ इराक और कु्र्दिस लड़ाको ने जंग जबरदस्त जंग छेड़ दी है और अमेरिका चाहता है कि किसी भी हालत में बगदादी को मारा जाए। क्योंकि इसका फायदा अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव मेंराष्ट्रपति पद की डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को मिलेगा। इसलिए अमेरिका ने भी आईएस को समाप्त करने के लिए पूरी जना लगा दी है।