सीरिया के दो शहरों में ISIS के फिदाईन हमले, 120 से ज्यादा की मौत

नई दिल्ली (24 मई): सीरिया के जवलेह और टारटौस शहर में कल किये गये दो फिदाईन हमलों में एक सौ बीस लोग मारे गये हैं। यह सीरिया में अब तक का सबसे भयानक हमला है। ये हमला आईएसआईएस के आतंकियों ने किया है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन्हीं शहरों में राष्ट्रपति बशर-अल-असद के समुदाय के लोग रहते हैं। इन्हीं के पास रूसी सेना के बेस कैंप भी हैं।

आईएसआईएस ने हमलों के बाद कहा कि उसका निशाना उसी समुदाय के लोग थे जिस समुदाय के बशर-अल-असद हैं। सीरिया के हालात पर नज़र रखने वाले संगठन ने कहा है कि इन हमलों में कम से कम 120 लोग मारे गये हैं। यह भी जानकारी मिली है कि पांच फिदाईनों के अलावा दो बम कार में भी फिट किये गये थे। पहला हमला टारटौस शहर में किया गया। यहीं पर रूस का नैवी बेस है। जब कि जबलेह में रूस का एयरफोर्स का बेस है।

सीरिया के सूचना मंत्री उमरान अल ज़ौबी ने कहा कि आतंकियों की ताकत घट रही है। अब उनके पास इतनी ताकत नहीं बची है कि वो सेना का मुकाबला करें। इसलिए वो अब निर्दोष और निहत्थे लोगों को निशाना बना रहे हैं। ज़ौबी ने कहा कि आतंकियों की बची हुई ताकत भी खत्म कर दी जायेगी। उनके खिलाफ अभियान तभी खत्म होगा जब उनका पूरी तरह खात्मा हो जाएगा।