पंजाब: ISI समर्थित आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, त्योहारों पर हमले की तैयारी कर रहा आतंकी गिरफ्तार

                                                       image source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 2 नवंबर ):  पंजाब पुलिस ने गुरुवार को पटियाला में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई समर्थित आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने इसके साथ ही शबनमदीप सिंह उर्फ मनिंदर लाहौरिया नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने कहा कि उसके पास से एक पिस्तौल, एक हथगोला, एक मोटरसाइकिल और खालिस्तान गदर फोर्स तथा अन्य आतंकवादी संगठनों के नाम के लैटर पैड जब्त किये गये।

पुलिस ने कहा कि शबनमदीप सिंह उर्फ मनिंदर लाहौरिया से पाकिस्तान स्थित उसके आकाओं ने त्योहारों के आगामी मौसम में पुलिस चौकियों और भीड़भाड़ वाले स्थानों को निशाना बनाने को कहा था। डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने कहा कि सिंह की गिरफ्तारी ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और गुरपतवंत सिंह पन्नू के संगठन 'सिख फॉर जस्टिस' (एसएफजे) के बीच सांठगांठ का खुलासा किया है,क्योंकि उसके एक हैंडलर ने उसकी पहचान एसएफजे के सदस्य के रूप में की।
अरोड़ा ने कहा कि सिंह पटियाला जिले के दफ्तरी वाला बुराड़ गांव का निवासी है और वह राजस्थान में दर्ज एक मामले में जमानत पर रिहा है। डीजीपी ने कहा कि सिंह 'लाहौरिया जाट गिल' के फर्जी नाम से फेसबुक अकाउंट को चला रहा था। एकाउंट पर जरनैल सिंह भिंडरावाले की प्रेाफाइल पिक्चर लगी है।

पुलिस ने बताया कि जांच में सामने आया है कि शबनमदीप से पाक इंटेलीजेंस ऑफिसर जावेद खान वजीर ने संपर्क किया था। उसने उसकी निहाल सिंह नाम के व्यक्ति से जान-पहचान कराई गई थी। उसने खुद को आईएसआई समर्थित सिख फॉर जस्टिस संगठन का समर्थक बताया। इसके बाद निहाल सिंह और पाक इंटेलीजेंस अफसर ने शबनमदीप से नियमित तौर पर बातचीत करनी शुरू कर दी।

इन दोनों ने शबनमदीप को शराब के ठेकों को आग लगाने और फिर इन वारदात की वीडियो बनाकर उन्हें भेजने के लिए कहा। इन निर्देशों का पालन करते हुए शबनमदीप और उसके साथियों ने पिछले महीने कई शराब के ठेकों और झोपड़ियों समेत एक घर में आग लगाई। इन सबकी वीडियो बनाकर उसने पाकिस्तान स्थित अपने साथियों को भेजी।

आरोपियों ने शबनमदीप को पिस्टल व ग्रेनेड देने का वादा किया था। 24 अक्तूबर को इन हथियारों की डिलीवरी भी शबनमदीप को हो गई थी। इस ग्रेनेड का इस्तेमाल शबनमदीप को त्योहारी सीजन के दौरान कुछ पुलिस स्टेशन, पुलिस पोस्ट और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर इस्तेमाल करने की ताकीद की गई थी।

डीजीपी ने जारी बयान में बताया है कि शबनमदीप सिंह की गिरफ्तारी ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि एसएफजे संगठन सिख रेफरेंडम 2020 कैंपेन का हिंसा व आगजनी के जरिये करना जारी रखे है। डीजीपी ने पंजाब के नौजवानों से इस तरह से एंटी नेशनल और असमाजिक तत्वों के जाल में न फंसने की अपील की है।