बड़ा खुलासा: 'पंजाब में हिंदू नेताओं की हत्या ISI ने कराई'

नई दिल्ली ( 7 नवंबर ): पंजाब में दक्षिणपंथी नेताओं की लगातार हो रही हत्या के मामले में बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि राज्‍य में धार्मिक व अन्‍य संगठनों के नेताओं की हत्‍या में पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ का हाथ है। पंजाब पुलिस ने हिंदू नेताओं सहित आठ लोगों की हत्‍या के मामले की गुत्‍थी सुलझा ली है। आइएसएस ने यह साजिश पंजाब में अशांति और धार्मिक फसाद कराने की नीयत से रचा।

सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने यह खुलासा मंगलवार शाम प्रेस कांफ्रेंस कर किया। उन्‍होंने कहा कि पिछले दिनों पंजाब में हुई हिंदू और अन्‍य धार्मिक नेताओं की हत्‍या के आठ मामले सुलझा लिए हैं। पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। उन्‍होंने कहा कि इन लोगों ने आइएसआई के इशारे पर इन घटनाओं को अंजाम दिया। इससे पंजाब में अशांति और धार्मिक वैमनस्‍य का माहौल पैदा करने की साजिश थी।

उन्‍होंने बताया कि इनमें शामिल चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें आरएसएस नेता जगदीश गगनेजा और रविंदर गोसाईं, अमित अरोड़ा, दुर्गादास गुप्‍ता, अमित शर्मा, सतपाल, रमेश कुमार व सुल्‍तान महीस की हत्‍या के मामले शामिल हैं।

कैप्टन अमरिंदर सिंह कहा कि आइएसआइ ने पंजाब, इंग्लैंड और पाकिस्तान में साजिश रची। विभिन्न देशों में बैठे अपने एजेंटों के माध्‍यम से इन घटनाओं को अंजाम दिया। उन्होंने कहा कि हत्‍या की इन घटनाओं में इस्‍तेमाल हथियारों और बैलिस्टिक फॉरेंसिक रिपोर्ट आ चुकी है। इसमें पता चला है कि हथियार आइएसआइ द्वारा उपलब्‍ध कराए गए हैं।

डीजीपी सुरेश अरोड़ा बताया कि इन मामलों में जालंधर के जगतार सिंह जौहल, जिम्मी सिंह और नाभा जेल में बंद धर्मेंद्र घुघनी सहित चार गैंगसटरों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आइएसआइ ने इनको हथियार और विस्‍फोटक उपलब्‍ध कराए। डीजीपी ने कहा कि अमृतसर में पिछले दिनों हुई हिंदू नेता की हत्‍या लेनदेन के कारण हुई थी।