फ्लोरिडा गोलीबारी: IS लड़ाके ने दिया घटना को अंजाम

नई दिल्ली(13 जून): आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से जुड़ी एक मीडिया एजेंसी ने एक अज्ञात सूत्र के हवाले से कहा है कि अमेरिका में फ्लोरिडा के ओरलैंडो स्थित एक गे क्लब में हुए नरसंहार को आईएस के एक लड़ाके ने अंजाम दिया। एक सूत्र के हवाले से इसने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि ओरलैंडो, फ्लोरिडा में समलैंगिकों के एक नाइट क्लब को निशाना बनाने वाला हमला इस्लामिक स्टेट के एक लड़ाके ने किया था जिसमें 50 से ज्यादा लोग मारे गए और घायल हुए। आईएस से जुड़ी समाचार एजेंसी अमाक ने और कोई ब्योरा नहीं दिया। अमेरिकी मीडिया ने खबर दी कि अफगान मूल के अमेरिकी नागरिक उमर मतीन ने जिहादी संगठन आईएस के प्रति निष्ठा व्यक्त की थी।

इस घटना पर अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि फ्लोरिडा के ओरलैंडो के एक नाइटक्लब में हुई भयावह अंधाधुंध गोलीबारी एक आतंकी और नफरत का कृत्य है। उन्होंने अपने देश के लोगों को बंदूकों तक आसान पहुंच की भी याद दिलाई। गौरतलब है कि इस गोलीबारी में 50 लोग मारे गए।

ओबामा ने कहा कि यह एक आतंकी और नफरत का कृत्य था। उन्होंने यह भी कहा कि एफबीआई इसे आतंकवादी घटना मानकर जांच कर रही है। ओबामा ने कहा कि इस गोलीबारी के पीछे की वजह का अब तक सही-सही कुछ पता नहीं चल सका है। ओबामा ने कहा कि यह समलैंगिक समुदाय के लिए दिल तोड़ने वाला दिन है। उन्होंने कहा कि यह गोलीबारी अमेरिकी इतिहास की सबसे जानलेवा गोलीबारी है। उन्होंने यह भी कहा कि यह इस बात की भी याद दिलाता है कि ऐसी हिंसा के लिए किसी को कितनी आसानी से बंदूकें मिल जाती हैं।

ओबामा ने कहा कि अमेरिका के लोगों को तय करना होगा कि ‘क्या हम एक ऐसा देश बनना चाहते हैं’ जहां बंदूकों तक आसान पहुंच हो। उन्होंने कहा कि हम डरने वाले नहीं हैं। इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यह 15वीं बार है जब ओबामा ऐसी गोलीबारी के बाद राष्ट्र को संबोधित करने सामने आए हों।

इस बीच, फ्लोरिडा में हुई गोलीबारी के बाद इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ओबामा को शोक संदेश भेजा। नेतन्याहू ने कहा कि ओरलैंडों में समलैंगिक समुदाय पर हुए भयावह हमले के बाद मैं इजराइल के लोगों और सरकार की तरफ से अमेरिका के लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। उन्होंने कहा कि दुख की इस घड़ी में इजराइल अमेरिका के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।

पोप फ्रांसिस ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह ‘हिंसक मूखर्ता और बेमतलब नफरत’ है। ‘होली सी’ से जारी एक बयान में कहा गया कि इस घटना ने पोप फ्रांसिस और हम सब में खौफ और निंदा की भावनाएं भर दी हैं। यह हिंसक मूखर्ता और बेमतलब नफरत है।