पाकिस्तान में तख्ता पलट होगा ?

नई दिल्ली (18 अगस्त): पाक सेना प्रमुख जनरल राहिल शरीफ के उत्तराधिकारी की खोज के प्रयासों के बीच अमेरिकी विद्वानों ने कहा है कि पाकिस्तान की प्रभावशाली सेना नागरिक सरकार गिराने को तैयार नहीं है, लेकिन वह सरकार पर वर्चस्वकारी प्रभाव बनाए रखेगी। अमेरिकी राजनयिक रॉबिन राफेल के अनुसार पाकिस्तान में सरकार में आकस्मिक बदलाव की गुजाइंश कम ही है, क्योंकि सेना नागरिक व्यवस्था को गिराने के लिए तैयार नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दक्षिण एशिया मामलों की प्रभारी रहीं पूर्व अमेरिकी सहायक विदेश मंत्री राफेल उन आधे दर्जन अमेरिकी विद्वानों में एक हैं, जिन्होंने यहां हाल ही में एक संगोष्ठी में पाकिस्तान की वर्तमान राजनीतिक स्थिति का विश्लेषण किया। वक्ताओं ने वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था की कमियों और ताकतों तथा पाकिस्तान के प्रभावशाली सैन्य प्रतिष्ठान के साथ उसके संबंध पर प्रकाश डाला। सभी इस बात से सहमत थे कि सेना नागरिक प्रशासनिक व्यवस्था पर अपना वर्चस्व को बनाए रखेगी लेकिन उसे गिराएगी नहीं।