'शुक्र है ऐसे देश में हूं जहां धार्मिक ठेकेदारों का राज नहीं'

नई दिल्ली (2 जुलाई): एक्टर इरफान खान के बयान पर विवाद खत्म होने को नाम नहीं ले रहे हैं। वहीं इरफान भी लगातार अपने ऊपर हो रहे हमलों का जवाब दे रहे हैं। उन्होंने शुक्रवार को सोशल मीडिया पर धर्मगुरुओं को जमकर सुनाया। उन्होंने फेसबुक पर लिखा कि ‘मैं धर्मगुरुओं से नहीं डरता। खुदा का शुक्र है कि मैं ऐसे देश में नहीं रहता, जहां धार्मिक ठेकेदारों का राज चलता हो। प्लीज भाइयों, जो मेरे बयान से दुखी हैं, या तो वो आत्म विश्लेषण के लिए तैयार नहीं हैं या नतीजे पर पहुंचने की जल्दी में हैं।'

बता दें कि इससे पहले उन्होंने अपनी आने वाली फिल्म 'मदारी' के प्रमोशनल इवेंट में ईद-उल-जुहा को लेकर कहा था कि कुर्बानी का मतलब अपनी कोई अजीज चीज कुर्बान करना होता है। ये नहीं कि बाजार से आप कोई दो बकरे खरीद लाए और उनको कुर्बान कर दिया।

इरफान इतने पर ही नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा कि आपको उन बकरों से कोई लेना-देना नहीं है तो वो कुर्बानी कहां से हुई? इससे कौन-सी दुआ कुबूल होती है? हर आदमी अपने दिल से पूछे कि किसी और की जान लेने से उसको कैसे पुण्य मिल जाएगा? बुधवार को इरफान ने यह भी कहा कि हमारे जो भी त्योहार हैं, उनका मतलब हमें वापस से समझना चाहिए कि वे किसलिए बनाए गए हैं। सौभाग्य है कि एेसे देश में रह रहा हूं जहां हर धर्म का सम्मान होता है।

वहीं सलमान और दूसरे सेलिब्रिटीज के दिए जाने वाले बयानों को लेकर इरफान ने कहा कि सेलिब्रिटी भी इंसान हैं। आप उसे महान आत्मा मत समझिए। उससे भी गलती हो सकती है। उन्हें सीरियसली नहीं लेना चाहिए। इरफान ने कहा कि अपना हीरो उन्हें बनाएं जो बिना स्वार्थ के कुर्बानी देकर लोगों की मदद करे।

इरफान ने इवेंट में मंत्रियों पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जिस तरह मदारी डमरू बजाकर वादा करता था कि सांप और नेवले की लड़ाई दिखाएगा, लेकिन कभी दिखाता नहीं, ऐसे ही वादे मंत्री करते हैं, पर पूरा नहीं कर पाते। इरफान ने कहा कि जो लोग इस्लाम को बदनाम करते हैं या आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हैं, उनके खिलाफ फतवा जारी होना चाहिए।