ट्रेन में खाना मंगवाते समय भूलकर भी नहीं करें ये गलती

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (25 मई): अगर आप में ट्रेन से सफ़र करने का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए बड़ी खबर है। इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने ट्रेन में सफर करने वालों को चेतावनी देते हुए कहा है कि जो मोबाइल ऐप्स से खाना मंगाते हैं, वह आईआरसीटीसी का नहीं हैं। 

आईआरसीटीसी ने इस बारे में यात्रियों को सोशल मीडिया के जरिए बताया है। IRCTC का कहना है कि ट्रैवल खाना और रेल यात्री जैसी अनाधिकृत वेबसाइट्स से अगर यात्रियों के खाना मंगाते हैं तो उसकी गुणवत्ता, मात्रा और डिलीवरी को लेकर की गई शिकायतों पर आईआरसीटीसी की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी। 

आईआरसीटीसी ने इस ट्वीट के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की है। उसमें बताया है कि ट्रैवल खाना और रेल यात्री आईआरसीटीसी के एग्रीगेटर नहीं है। यात्रियों से इसी के साथ अपील की गई कि वे फूड ऑन ट्रैक मोबाइल ऐप या फिर www.ecatering.irctc.co.in के जरिए ही सफर में खाना मंगाएं।

आपको बता दें कि ऑनलाइन ढेरों साइट्स या ऐप मौजूद हैं, जो रेल सफर के बीच खाना मुहैया कराते हैं। कई बार उनके खाने को लेकर शिकायतें आती हैं। ऐसे में यात्री उसे रेलवे की सेवा समझ उसकी शिकायत आईआरसीटीसी से करते हैं, जबकि सच्चाई कुछ और ही होती है।  IRCTC ने साफ किया है कि रेल यात्री, रेल रसोई, खाना गाड़ी, खाना ऑनलाइन, फूड इन ट्रेन, फूड ऑन व्हील, ट्रैवल जायका, ट्रेन फूड, ट्रैवल फूड और ई-रेल से इंडियन रेलवे का कोई लेना-देना नहीं है।